जागरण संवाददाता, उरई : यूपी बोर्ड परीक्षा आज से शुरू हो रही हैं। जिले के 57 केंद्रों पर कुल 42.381 परीक्षार्थी शामिल होंगे। परीक्षा को नकलविहीन बनाने के लिए प्रशासनिक अफसरों व शिक्षाधिकारियों की ओर से सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त कर लिया गया है। सोमवार को परीक्षा केंद्रों पर डेस्क स्लिप चस्पा करने का कार्य चलता रहा, वहीं डीआइओएस ऑनलाइन कैमरों की स्थिति चेक करते नजर आए।

बोर्ड परीक्षा की पूर्व संध्या पर हर केंद्र पर अंतिम समय तक खामियों को दूर किया गया। केंद्र व्यवस्थापक, अध्यापक व कर्मचारी पूरे दिन काम में लगे रहे ताकि अधिकारियों को किसी तरह की कमी न नजर आए। सोमवार को ही कई परीक्षार्थी कॉलेज पहुंचे और बैठने की व्यवस्थाएं देखीं। 15 मिनट देर से आए तो भी मिलेगा प्रवेश

इस बार व्यवस्था यह की गई है कि अगर परीक्षार्थी किसी कारण से पंद्रह मिनट की देरी से केंद्र पहुंचता है तो वह परीक्षा से वंचित नहीं रहेगा। इस संबंध में केंद्र व्यवस्थापकों को निर्देश दिए गए हैं। दिव्यांगों को आधा घंटे का मिलेगा अतिरिक्त समय

बोर्ड परीक्षा में दिव्यांग परीक्षार्थियों के लिए आधा घंटे का अतिरिक्त समय दिया जाएगा, ताकि वह समुचित ढंग से परीक्षा दे सके। जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि शासन की ओर से दिए गए निर्देशों का पालन कड़ाई से कराया जाएगा। पांच मिनट में पहुंचेगी कोबरा व यूपी 112

परीक्षा में किसी तरह की गड़बड़ी न होने पाए इसके लिए विशेष व्यवस्था की गई है। अगर जरूरत पड़ती है तो पांच मिनट के अंदर कोबरा व यूपी 112 केंद्र पर पहुंच जाएगी। डीआइओएस ने बताया कि पुलिस अधीक्षक से इस संबंध में बात की गई थी। इसके बाद एसएसपी ने निर्देश जारी कर दिए हैं। संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर रहेगी कड़ी नजर

जिले में कुल छह संवेदनशील परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इनकी कड़ी निगरानी की व्यवस्था की गई है। इन सभी परीक्षा केंद्रों के लिए स्टेटिक मजिस्ट्रेट तैनात किए जा रहे हैं। ताकि हर गतिविधि पर नजर रखी जा सके। चार सचल दल करेंगे निगरानी

परीक्षा के लिए चार सचल दल बनाए हैं। इसमें एक प्रभारी के अलावा चार अध्यापकों को भी रखा गया है। सभी को निर्देश दिए गए हैं कि परीक्षा में किसी तरह की गड़बड़ी नहीं होनी चाहिए। सात सेक्टर मजिस्ट्रेट करेंगे भ्रमण

परीक्षा की शुचिता को बनाए रखने के लिए जिला प्रशासन ने सात सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाए हैं जो लगातार भ्रमण कर व्यवस्थाएं देखेंगे। इसके अलावा दो जोनल मजिस्ट्रेट भी बनाए गए हैं। कंट्रोल रूम का नोडल सिटी मजिस्ट्रेट को बनाया गया है।

परीक्षार्थी क्या लेकर न जाएं

- मोबाइल फोन या पेजर

- कोई भी इलेक्ट्रॉनिक यंत्र

- किसी भी प्रकार का अस्त्र शस्त्र

- कोई कागज या किताब आदि इस बार नहीं उतरवाए जाएंगे जूते-मूजे

बोर्ड परीक्षा में इस बार परीक्षार्थियों के लिए सहूलियत की गई है। प्रमुख सचिव स्तर से निर्देशित किया गया है कि परीक्षा में किसी भी परीक्षार्थी के जूते मोजे नहीं उतराए जाने हैं। बल्कि प्रवेश के समय जूते मोजों की भलीभांति जांच की जानी है। हाईस्कूल

आठ से 11:15 बजे

हिंदी प्रारंभिक हिंदी इंटरमीडिएट

दो से 5:15 बजे

हिंदी व सामान्य हिंदी कंट्रोल रूम में बैठकर हर परीक्षा केंद्र की व्यवस्था को देखा गया है। साथ ही केंद्र व्यवस्थापकों से पूरी जानकारी मांगी। इसके साथ ही नकलविहीन परीक्षा कराने के लिए व्यवस्थापकों व सचल दलों को विशेष आदेश दिए गए हैं।

भगवत, पटेल, जिला विद्यालय निरीक्षक

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस