संसू, हाथरस : पांच दिन बाद भी सासनी पुलिस ग्राम विजाहरी के अजयवीर के हत्यारों को नहीं पकड़ पाई। इससे परिवार एवं ग्रामीणों में आक्रोश भड़क उठा। रविवार को परिजनों ने ग्रामीणों के साथ थाने पर जमकर हंगामा किया और गेट पर धरना देकर बैठ गए। पुलिस पर हत्यारों से मिलीभगत का आरोप लगाया।

पांच दिन पूर्व ग्राम विजाहरी निवासी अजयवीर को कुछ लोग घर से बुला कर ले गए थे। दूसरे दिन विजाहरी के जंगल में अजयवीर का क्षत-विक्षत शव मिला था। घटना में हत्या की रिपोर्ट मृतक के भाई सुरेश ने गांव के ही लोगों के खिलाफ दर्ज कराई थी। घटना के पांच दिन बाद भी पुलिस हत्यारों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। परिजनों का आरोप है कि हत्यारे गांव में सरेआम घूम रहे हैं। फिर भी पुलिस को वे नजर नहीं आ रहे। इससे परिजन भयभीत हैं। रविवार को परिजनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर थाने पर जम कर हंगामा काटा। पुलिस के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करते हुए थाने के गेट पर धरना देकर बैठ गए। पुलिस के खिलाफ नारेबाजी चलती रही। परिजनों का आरोप है कि पुलिस हत्यारों से मिली हुई है।

इस मामले में प्रभारी निरीक्षक पहलवान सिंह का कहना है कि आरोपितों की तलाश में जगह-जगह दबिशें दी जा रही हैं, जल्द ही आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। मारपीट के मामले में दर्ज हुई रिपोर्ट

संसू, सादाबाद : ग्राम गीगला निवासी सियाराम पुत्र लालाराम ने गांव के ही पप्पू, राजेश, बनी सिंह पुत्रगण नंदकिशोर, रामचरण, नंदकिशोर पुत्रगण वासुदेव, बिट्टादेवी पत्नी नंदकिशोर, संजय, राजू, जयवीर, उमेश पुत्रगण रामचरण के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराते हुए कहा है कि 27 अक्टूबर की शाम करीब 5:30 बजे उनकी पुत्रवधू घर पर काम कर रही थी। तभी मोहल्ले के ये सभी लोग घर के अंदर घुस गए। उनके पुत्र को लाठी से पीटा। मारपीट में घायल विनोद, सियाराम तथा दुलारी को हॉस्पिटल लेकर आए, जहां उनका उपचार कराया गया। इससे पूर्व 27 अक्टूबर को उनकी पुत्रवधू को अकेली पाकर पप्पू और जयवीर ने बदसलूकी की थी। तब उन लोगों को फटकार लगाई तो वे लोग भाग गए। उन्होंने सौ नंबर पर पुलिस को सूचना दी तो पुलिस पहुंची थी। आरोपित लोग उन्हें गांव से भगाने व रिपोर्ट करने पर जान से मारने की धमकी दी है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस