जागरण संवाददाता, हाथरस : कोरोना वायरस की दहशत के माहौल के बीच कर्मयोगी अपना कार्य निष्ठा से कर रहे हैं। इस विषम समय में भी कर्मयोगी सुबह-सुबह अखबार पाठकों के घरों तक पहुंचाते हैं। वास्तव में ये लोग सम्मान के पात्र हैं। इसी क्रम में जिलेभर में पाठकों ने शुक्रवार सुबह कर्मयोगियों का जगह-जगह अभिवादन किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच अपना कर्तव्य निभाने वाले चिकित्साकर्मियों, पुलिसकर्मियों और मीडियाकर्मियों की सराहना की थी। उनकी अपील पर 22 मार्च को शाम पांच बजे सभी देशवासियों ने अपने घर की बालकनी पर आकर तालियां-थालियां, घंटे-घडि़याल और शंख-ढोल बजाकर इन कर्मयोगियों के प्रति सम्मान और आभार जताया था। ऐसे ही अभिनंदन के हकदार समाचार पत्र वितरक भी हैं जो किसी भी बाधा की परवाह किए बगैर हर ऋतु में सूरज उगने से पहले आपके दरवाजे पर समाचार पत्र पहुंचाते हैं। आपके पड़ोस, मोहल्ले, शहर, सूबा और देश में जो कुछ घटित हुआ, उसके विस्तृत एवं विश्वसनीय विवरण के लिए अखबार एकमात्र माध्यम है। आपको जो जानकारियां किसी अन्य माध्यम से प्राप्त हो चुकी होती हैं, उनकी प्रामाणिकता और पवित्रता आप अखबार से ही जांचते हैं। संभव है, किसी दिन किसी वजह से आपको चाय मिलने में भले ही 10-15 मिनट विलंब हो जाए, पर ऐसा कभी नहीं होता कि आप आंखें मलते घर का मुख्य द्वार खोलें तो वहां आपको अखबार न मिले। यह आसान नहीं होता। हम खुद को कसौटी पर परखें तो पाएंगे कि प्राकृतिक, पारिवारिक या व्यक्तिगत कारणों से हम कितनी बार छुट्टी मना लेते हैं, पर हमारे समाचार पत्र वितरक कभी ऐसा नहीं करते। अपरिहार्य परिस्थिति में वह अपने किसी सहयोगी को आपके घर समय पर अखबार पहुंचाने की जिम्मेदारी सौंप जाते हैं। ऐसे ही निष्ठावान कर्मयोगियों का हाथरस, सासनी, सादाबाद क्षेत्र के लोगों ने अभिवादन किया।

मिला सम्मान : हाथरस में रवि कुमार सासनीगेट पर अखबार बांट रहे थे तभी एक पाठक ने उनसे अखबार लिया और इस सराहनीय कार्य के लिए उन्हें मिठाई खिलाई। सासनी के कर्मयोगी कमल माहेश्वरी और राजेंद्र वर्मा का पाठकों ने चॉकलेट देकर अभिवादन किया। बिसावर में कर्मयोगी हरेश चौधरी का स्थानीय लोगों ने ताली बजाकर स्वागत किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस