जागरण संवाददाता, हाथरस : कलक्ट्रेट सभागार में बुधवार को जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति (दिशा) की बैठक में पूरे जनपद में टूटी सड़कों के साथ डीएपी खाद का संकट का मुद्दा भी उठाया गया। सांसद राजवीर सिंह दिलेर की अध्यक्षता में हुई बैठक में बिजली के जर्जर तारों का मामला भी गूंजा। इस पर डीएम ने कहा कि खाद की समस्या जल्द दूर होने वाली है। टूटी सड़कें शासन से बजट मिलने पर ही बन पाएंगी।

बैठक में जनप्रतिनिधियों को अफसरों की ओर से जानकारी न देने पर सांसद ने गहरी नाराजगी जताई और कहा कि जो अफसर बैठक में नहीं आए हैं वे अगली बार जरूर पूरी तैयारी के साथ आएं। कलक्ट्रेट सभागार में हुई बैठक में सांसद राजवीर सिंह दिलेर ने पूर्व में हुई बैठक में दिए गए दिशा-निर्देशों पर की गयी कार्यवाही के बारे में जानकारी ली। उन्होंने केंद्र सरकार की ओर से संचालित लोक कल्याणकारी, गरीबी उन्मूलन व रोजगारपरक योजनाओं का लाभ गांव के किसान, मजदूरों तथा जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाने के लिए सभी विभागीय अधिकारियों से स्पष्ट अपेक्षा की।

बैठक में परियोजना निदेशक अश्विनी कुमार मिश्र समेत अन्य अफसरों ने अपने विभाग की उपलब्धियों से सांसद को अवगत कराया। निर्धारित वक्त 11 बजे की बजाय सांसद 11 बजकर 55 मिनट पर आए और तुरंत बैठक की कार्यवाही शुरू कर दी गई। पूर्व सांसद बंगाली सिंह कुछ मामले रखना चाहते थे तभी डीएम ने रोका कि पहले सभी योजनाओं से सभी को अवगत करा दिया जाए। उसके बारे में सवाल -जवाब हो जाने दें। इसके बाद दिशा के सदस्य करीब 20 मिनट तक खामोश रहे, मगर सांसद ने कहा कि सभी सदस्य अपनी बात बीच-बीच में भी रख सकते हैं। सड़कें टूटी हैं, खाद मिल

नहीं रहा, पब्लिक घेर रही

पूर्व सांसद डा. बंगाली सिंह ने तल्ख तेवरों में कहा कि सीएम की योजनाओं को पलीता लगाया जा रहा है। सड़कों में गड्ढे हैं। इस पर सांसद ने भी कहा कि बताया जाए कि सड़कों का इतना बुरा हाल क्यों है? इस पर डीएम ने माइक संभाला और कहा कि सड़कों को गड्ढामुक्त करने का काम चल रहा है। बड़ी लागत की सड़कों का प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है। शासन से मंजूरी मिलते ही काम कराया जाएगा। अमृत योजना के तहत खोदी गई सड़कों को न बनाने के सवाल पर सांसद ने डीएम ने कहा कि कुछ सड़कों की मरम्मत कराई गई है। बाकी जो सड़कें रह गई हैं उनको दुरुस्त कराया जाएगा। पूर्व सांसद ने शौचालयों में उपले और कबाड़ भरे होने का मुद्दा भी उठाया। सुनने वाला कोई नहीं

दिशा समिति के सदस्य ने सवाल किया कि समिति के कुछ अधिकार हैं, लेकिन समिति सदस्यों को विभागीय अधिकारी जवाब नहीं देते हैं। सांसद ने भी भी इस पर गहरी नाराजगी जताई। जिलाधिकारी रमेश रंजन ने सभी अधिकारियों को विभागीय कार्यों को गुणवत्ता सहित समय से पूरा करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने परियोजना निदेशक को रजबहों से निकलने वाली नालियों पर किए गए अवैध कब्जे के संबंध में जांच कर रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। मुख्य विकास अधिकारी आरबी भास्कर ने आभार जताया। बैठक में विधायक सदर हरीशंकर माहौर, प्रीती चौधरी, जिला पंचायत राज अधिकारी, बेसिक शिक्षा अधिकारी शाहीन, जिला उद्यान अधिकारी अनीता सिंह, उप कृषि निदेशक एचएन सिंह, जिला पूर्ति अधिकारी एसपी शाक्य व विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

Edited By: Jagran