जागरण संवाददाता,हाथरस: सीएमओ डा. बृजेश वशिष्ठ ने कहा कि अब हाथरस में भी रोटावायरस वैक्सीन की शुरूआत होने जा रही है। यह नियमित टीकाकरण में शामिल होगी। इससे शिशुओं की रक्षा होगी और डायरिया आदि से अकाल मौत नहीं हो सकती है।

वे सीएमओ कार्यालय में रोटावायरस के जनपद स्तरीय प्रशिक्षकों के शुरू हुए प्रशिक्षण समारोह के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जुलाई के अंतिम सप्ताह तक वैक्सीन प्राप्त होने की संभावना है। 15 जुलाई तक जनपद की सभी एएनएम आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित किया जाएगा। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी एवं प्रशिक्षक डॉ. बृजेंद्र ¨सह द्वारा बताया गया कि 1 से 2 साल तक के बच्चों की मौत का दूसरा सबसे बड़ा कारण डायरिया है जो कि रोटा वायरस के कारण होता है। रोटावायरस वैक्सीन आने के बाद इन मौतों पर अंकुश लगेगा। जिला स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी चतुर ¨सह ने बताया गया कि रोटावायरस वैक्सीन 1 साल तक के सभी बच्चों को दी जाएगी। इसे नियमित टीकाकरण के साथ 6 सप्ताह 10 सप्ताह एवं 14 सप्ताह पर दिया जाएगा। बॉयल खुलने के बाद इसे 4 घंटे तक प्रयोग कर सकेंगे। डॉ पवन कुमार प्रशिक्षक ने वैक्सीनेशन होने के बाद रिपोर्ट करने के बारे में बताया। डॉ अजय सारस्वत ने रोटावायरस और वाइरस वैक्सीन प्रबंधन के बारे में बताया। श्रीमती संगीता साहू ने वैक्सीन के रखरखाव के बारे में बताया कि इसे डीपफ्रीजर तथा एल आर में प्लस 2 से प्लस 8 सेंटीग्रेट पर रखना है । प्रशिक्षण में समस्त ब्लॉकों के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी, द्वितीय चिकित्सा अधिकारी, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी, सहायक शोध अधिकारी, बीसीपीएम मुकेश कुमार, संतोष कुमार, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी रुपेश गोयल सीएमएस जिला महिला चिकित्सालय, धर्मेंद्र कुमार, बलवीर ¨सह एवं अन्य स्टाफ मौजूद रहे।

Posted By: Jagran