संवाद सहयोगी, हाथरस : मंगलवार दोपहर को स्पाइसी रेस्टोरेंट में रिश्ते के मामा ने बीकॉम द्वितीय वर्ष में पढ़ रही भांजी की गला दबाकर हत्या कर दी थी। आरोपित मामा दूसरे दिन भी पकड़ में नहीं आया, जबकि पुलिस ने कई जगह दबिश दी। बुधवार दोपहर पुलिस की मौजूदगी में छात्रा का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

भूरापीर गली नंबर चार निवासी रामदास भारती की बड़ी बेटी 20 वर्षीय खुशबू भारती का शव बुर्जवाला कुएं के निकट स्थित स्पाइसी रेस्टोरेंट के हॉल में पड़ा मिला था। रेस्टोरेंट संचालक ने पुलिस को सूचना दी थी। पिता की तहरीर पर उनके छोटे भाई मनोज के साले विजेंद्र उर्फ विजय निवासी रायतपुर थाना इगलास (अलीगढ़) को नामजद किया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी गला दबाए जाने की पुष्टि हुई है। रिपोर्ट दर्ज होने के बाद कोतवाली इंस्पेक्टर ने टीम के साथ कई जगह दबिश दी, लेकिन आरोपित का पता नहीं चला। इंस्पेक्टर अनिल कुमार सिंह का कहना है कि जल्द ही उसे गिरफ्तार किया जाएगा। इधर, बुधवार को पूरे दिन रेस्टोरेंट बंद रहा।

शव पहुंचते ही कोहराम : पोस्टमार्टम के बाद बुधवार दोपहर को जैसे ही शव घर पहुंचा, वहां कोहराम मच गया और परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। तमाम लोग वहां एकत्रित हो गए। परिजनों को लोगों ने सांत्वना दी। तमाम तरह की बातें लोगों की जुबान पर थी। पुलिस की मौजूदगी में परिजनों ने अंतिम संस्कार कर दिया। सतर्क होते तो नहीं जाती जान

बताया जा रहा है कि आरोपित मामा ने भांजी पर शादी के लिए दबाव बनाने को धमकाया भी था। जिस पर समाज के लोगों के अलावा नाते रिश्तेदारों ने एक जनवरी को पंचायत तक की। तब विजय की ओर से आगे से खुशबू को परेशान न किए जाने की बात कही गई थी। बुधवार को अंतिम संस्कार के दौरान लोगों के बीच इस बात की चर्चा होती रही कि पहले ही पंचायत की बजाय रिपोर्ट दर्ज करा दी जाती तो खुशबू की जान न जाती।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस