संसू, सिकंदराराऊ (हाथरस) : एटा जनपद से हाथरस के सलेमपुर आई बरातियों से भरी कार गुरुवार देर रात सिकंदराराऊ क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गई। रात में वापसी के दौरान कोहरे के कारण अनियंत्रित होकर कार बंबे में पलट गई। कार में बैठे दूल्हे के चचेरे भाई की मौत हो गई, जबकि आठ बराती घायल हो गए। स्वजन शव एटा ले गए। वहीं पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार किया गया।

एटा के अवागढ़ थाना क्षेत्र के गांव नावली निवासी अशोक के बेटे अविनाश कुमार की बरात हाथरस के सलेमपुर स्थित देव फार्म हाउस में आई थी। शादी समारोह से दो कारें रात में करीब साढ़े 10 बजे वापसी के लिए रवाना हुईं। रात में कोहरा बहुत ज्यादा था। करीब 11 बजे बरातियों से भरी स्कार्पियो (यूपी 82 एबी 9559) सिकंदराराऊ से तीन किलोमीटर पहले बंबे में जा गिरी। कार बंबे में गिरकर उलटी हो गई। इसमें बराती फंसे रह गए। पीछे आ रही दूसरी कार में सवार बरातियों ने बंबे में घुसकर फंसे हुए बरातियों को बाहर निकाला। कार में बैठे चालक अजय कुमार, लकी, दिनेश कुमार, चंद्रप्रकाश, माया प्रकाश, नवीन कुमार, सर्वेश कुमार, योगेश को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। दूल्हे के चचेरे भाई 52 वर्षीय राम अवतार बेहोशी की हालत में बाहर निकाले गए। उन्हें दूसरी गाड़ी से सिकंदराराऊ सीएचसी लाया गया, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। इसके बाद स्वजन रामअवतार का शव और घायल बरातियों को लेकर एटा चले गए। नावली के प्रधान गजाधर सिंह ने बताया कि एटा में ही पोस्टमार्टम के बाद शव का गांव में अंतिम संस्कार कर दिया गया।

वहीं, सिकंदराराऊ पुलिस ने क्रेन से कार को बाहर निकलवाया। एसएचओ सिकंदराराऊ एके सिंह ने बताया कि हादसे के बाद स्वजन शव को एटा ले गए। पानी में डूबने से घुटी

रामअवतार की सांस

कार बंबे में गिरी तो टायर ऊपर की ओर और बाडी नीचे थी। रात के अंधेरे में शीशे तोड़कर दूसरी कार में सवार बरातियों ने स्कार्पियो सवार लोगों को बाहर निकालना शुरू किया। बंबे में पानी के कारण आधी गाड़ी डूब चुकी थी। बमुश्किल आठ लोगों को कार से बाहर निकाला गया। पानी में दम घुटने और सर्दी के कारण रामअवतार की मौत होना बताया जा रहा है।

आनन-फानन निपटाई

गई शादी की रस्में

बरातियों की कार दुर्घटनाग्रस्त होने की सूचना जैसे ही शादी समारोह में पहुंची तो अफरातफरी मच गई। शेष लोग भी घटनास्थल के लिए चल दिए। लड़का-लड़की पक्ष ने आनन-फानन शादी की रस्में पूरी कराईं। तड़के पांच बजे दुल्हन की विदाई हो गई थी।

Edited By: Jagran