संवाद सहयोगी, हाथरस : प्रदेश सरकार ने 50 माइक्रोन तक की पॉलीथिन के निर्माण और बिक्री पर 15 जुलाई से पूर्ण प्रतिबंध लगाने के आदेश दिए हैं, जिसका पालन कराने के लिए जिला प्रशासन ने भी कमर कस ली है। जिलाधिकारी ने उद्यमी, व्यापारियों की बैठक कर उन्हें पॉलीथिन के बैग न बेचने के कड़े निर्देश जारी किए हैं। साफ कहा है कि कहीं भी बिक्री न हो, इसके लिए टीमें सघन चे¨कग अभियान चलाएंगी। पकड़े जाने पर कार्रवाई की जाएगी।

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कान्फ्रें¨सग के जरिए स्पष्ट कहा है कि पहले चरण में 15 जुलाई से 50 माइक्रोन तक के पॉलीथिन बैग पर प्रतिबंध लगाने के आदेश दिए हैं। इसके बाद 15 अगस्त से प्लास्टिक व थर्मोकोल आदि से बने हुए कप, प्लेट व ग्लास पर प्रतिबंध लगाया जाएगा। तीसरे चरण में दो अक्टूबर से सभी प्रकार की पॉलीबैग व प्लास्टिक जो कंपोस्ट के रूप में परिवर्तित नहीं हो सकते, उनपर प्रतिबंध लगाया जाएगा। सरकार का मानना है कि प्लास्टिक, पॉलीथिन व थर्मोकोल से निर्मित पॉलीबैग, कप प्लेट, ग्लास आदि से गंदगी व प्रदूषण फैलता है। नष्ट न होने के कारण यह उत्पाद सीवर और नालों को चोक कर देता है। जानवरों के शरीर में पहुंचने पर भी यह भारी नुकसान पहुंचाता है। इसके लिए जागरूकता अभियान चलाने व इसकी बिक्री रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं। इसे लेकर जिलाधिकारी ने जनपद के उद्यमी व कारोबारियों के साथ बैठक कर शासन की मंशा से अवगत कराते हुए पॉलीथिन की बिक्री न किए जाने की सख्त हिदायत दी। इसके लिए डीएफओ की अध्यक्षता में टीमों का गठन किया गया है, जिसमें पर्यावरण, प्रदूषण, नगरीय निकाय आदि को शामिल किया गया है। 15 जुलाई से यह टीमें बिक्री रोकने के लिए जिले में अभियान चलाएंगी। बिक्री व उपयोग पाए जाने पर कार्रवाई भी की जाएगी।

सादाबाद नगर पंचायत का

जन जागरूकता अभियान कवायद

-कस्बे में जगह-जगह लगवाए गए फ्लैक्स, कराई गई मुनादी

-स्कूलों में प्रार्थना सभा के तहत बच्चों को दिलाई जाएगी शपथ संवाद सूत्र, सादाबाद : नगर पंचायत की ओर से भी पॉलीथिन पर बैन का एलान कर दिया गया है। प्लास्टिक मुक्त सादाबाद के अभियान में लोगों से सहयोग की अपील की जा रही है। पर्यावरण के लिए घातक सिद्ध होने वाली प्लास्टिक पर पूर्णत: प्रतिबंध लगाने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है। कस्बे में फ्लैक्स लगाने के साथ मुनादी कराई जा रही है। दूसरी ओर स्कूलों में भी बच्चों को प्रार्थना सभा के तहत शपथ दिलाई जाएगी।

पॉलीथिन के अत्यधिक प्रयोग के कारण कस्बे के नाले चोक होने के अलावा आवारा पशुओं के पॉलीथिन खाने से जान चली जाती है। पॉलीथिन का इस्तेमाल पर्यावरण के लिए बहुत खतरनाक साबित होने लगा है। नगर पंचायत अध्यक्ष रविकांत अग्रवाल के नेतृत्व में कस्बे में भी पॉलीथिन पर प्रतिबंध के लिए कमर कस ली गई है। पॉलीथिन मुक्त सादाबाद का संकल्प लिया गया है। इसके लिए कस्बे के प्रमुख स्थानों पर फ्लैक्स लगवाये गये हैं। कस्बे में मुनादी भी करा दी गई है। 15 जुलाई से कस्बे में पॉलीथिन का प्रयोग पूर्णत: बंद हो जाएगा। उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के महामंत्री बीके वर्मा ने अभियान का समर्थन किया है। अध्यक्ष बालकिशन गोयल की अध्यक्षता में हुई बैठक में चौधरी हरदम ¨सह, अनुपम ¨जदल, हरी लोहिया, प्रदीप गोयल आदि शामिल रहे।

हसायन : नगर पंचायत ने 15 जुलाई से पॉलीथिन के प्रयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लागू किये जाने के संबध में कस्बे में मुनादी कराई। अधिशासी अधिकारी डा. ब्रजेश कुमार ने समस्त नागरिकों को चेतावनी देते हुए कहा है कि 15 जुलाई से कोई भी व्यक्ति पॉलीथिन का प्रयोग नहीं करेगा। पॉलीथिन का प्रयोग करने पर दण्डात्मक कार्रवाई अमल में लायी जाएगी।

Posted By: Jagran