संवाद सहयोगी, हाथरस : बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। इस बेमौसम की बारिश के चलते शहर में जगह-जगह जलभराव हो गया है। शहर में रेलवे क्रासिग सहित कई इलाकों में रास्तों के जलमग्न हो जाने से राहगीर व वाहन चालकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

सोमवार को पूरे दिन में कई बार झमाझम बारिश हुई। इसके चलते शहर में जगह-जगह जलभराव हो गया। सबसे अधिक जलभराव प्रकाश टेक्सटाइल्स के सामने, बिजली काटन मिल स्थित रेलवे क्रासिग गेट, कोटा रोड, नया नगला, खंदारी गढ़ी, लेबर कालोनी, महादेवनगर, सोखना रोड, नवलनगर, जोगिया रोड सहित करीब 20 से अधिक स्थानों पर हो गया। जलभराव के रास्तों के जलमग्न होने से राहगीरों व वाहन चालकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। कई जगह तो जलमग्न रास्तों में दो पहिया व चार पहिया वाहन खराब होकर फंस गए। घरों के आगे पानी भरने से लोगों को निकलने में भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। बारिश से बचने के लिए लोग सड़कों से छाता लेकर निकले। बदला मौसम, ठंड की दस्तक

दो दिन से हो रही बारिश से मौसम भी बदल गया है। तापमान गिरने से मौसम सुहावना हो गया। कई दिन से पड़ रही उमसभरी गर्मी से भी बारिश ने लोगों को राहत दिलाई है। अधिकतम तापमान में करीब छह डिग्री सेल्सियस की कमी आई है। तेज हवाओं के चलने और तापमान में आई कर्मी से लोगों को सर्दी के मौसम का अहसास होने लगा है।

देहात में जलभराव से बंद रहे रास्ते

बारिश के चलते देहात क्षेत्रों में भी जलभराव की समस्याएं लोगों को परेशान करती रहीं। सादाबाद, सासनी, पुरदिलनगर, हसायन, मुरसान, सहपऊ क्षेत्रों में जगह-जगह जलभराव होने से रास्ते जलमग्न हो गए। वहीं सिकंदराराऊ में जलेसर रोड पर सहित पूर्वोत्तर रेलवे के ट्रैक पर बने अंडरपास में भी पानी भरने से राहगीरों व वाहन चालकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

Edited By: Jagran