जागरण संवाददाता, हाथरस : जिला न्यायालय में डीजीसी क्रिमिनल अनुराग शर्मा, एडवोकेट की पत्नी सुधा (35) ने गुरुवार देर रात कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। शव कमरे में लटका देख परिवार के होश उड़ गए। मायके वालों ने अधिवक्ता व उनके परिवार पर हत्या का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया है। घटना की जानकारी पर काफी संख्या में अधिवक्ता पहले गांव, फिर कोतवाली हाथरस गेट पहुंचे मगर अधिवक्ता को गिरफ्तारी से नहीं बचा पाए।

गुरुवार रात लगभग दस बजे महिला ने यह कदम उठाया। अनुराग शर्मा के दो बेटे हैं। एक की उम्र दस व दूसरे की पांच वर्ष है। दोनों बच्चे खेलते हुए कमरे पर पहुंचे तो कमरा अंदर से बंद था। अधिवक्ता के मुताबिक बच्चों के कहने पर परिवार के लोग कमरे पर पहुंचे। खिड़की से देखा तो अंदर सुधा पंखे पर लटकी हुई थीं। यह देख परिजनों के पैरों तले से जमीन खिसक गई। आनन-फानन दरवाजा तोड़कर उन्हें निकाला गया तथा जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। वहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। परिजन शव लेकर गांव आ गए। उन्होंने अपने साले राहुल उपाध्याय निवासी किशननगर, फीरोजाबाद को फोन पर सूचना दी। मायके वाले तत्काल गांव पहुंचे। यहां शव देख चीख-पुकार मच गई। सुधा के मायके वालों ने हत्या का आरोप लगाया तथा हाथरस गेट पुलिस को सूचना दी। एसएचओ संजीव शर्मा मौके पर पहुंचे तथा पोस्टमार्टम के लिए शव कब्जे में ले लिया। राहुल उपाध्याय ने बहन के पति अनुराग शर्मा, देवर आशीष शर्मा, देवरानी रिकी, सास मिथलेश व ननद नीलम के खिलाफ हत्या का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज करा दिया।

राहुल का आरोप है कि उनकी बहन को मारा गया है। वे यहां पहुंचे तो बेड पर चूड़ियां टूटी पड़ी थीं। आरोप है कि उनकी बहन को तीन महीने से नजरबंद कर रखा जा रहा था। मुकदमा दर्ज होने के बाद अनुराग को गिरफ्तार कर लिया गया। इसकी जानकारी पर काफी संख्या में अधिवक्ता कोतवाली हाथरस गेट पहुंच गए तथा अधिवक्ता को ढांढ़स बंधाया। शुक्रवार की दोपहर उन्हें कोर्ट में पेश किया गया, जहां से जेल भेजा गया।

इधर, डीएम के आदेश के बाद पैनल से पोस्टमार्टम कराया गया। फोटोग्राफी भी कराई गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की वजह हैंगिग आई है। पुलिस छानबीन में जुटी है।

अधिवक्ताओं ने किया शोक अवकाश

हाथरस : डीजीसी अनुराग शर्मा की पत्नी की मौत की खबर पर अधिवक्ताओं में शोक की लहर दौड़ गई। डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन ने शोक अवकाश घोषित कर दिया। सभी अधिवक्ता कोतवाली पहुंचे। पुलिस अधिकारियों से भी मुलाकात की। अधिकारियों ने निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया है। इनका कहना है

मायके वालों के आरोपों के आधार पर मुकदमा लिखा गया है। परिस्थितियां भी संदेहास्पद हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की वजह हैंगिग आई है। मामले की गंभीरता पूर्वक जांच की जा रही है।

-सिद्धार्थ वर्मा, एएसपी हाथरस

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप