जागरण संवाददाता, हाथरस : रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण अब तय समय सीमा में पूरा होता नहीं दिख रहा है। सोमवार से रेलवे ने पाइलिग शुरू कर दी है। अभी सात जगह पाइलिग होनी है तथा उन पर पिलर खड़े किए जाने हैं। इसके बाद पूर्वोत्तर रेलवे ट्रैक पर ब्लॉक लेकर गार्डर डाले जाएंगे। इस सब कार्य में कम से कम तीन महीने का समय लगेगा।

तालाब चौराहा व सासनी गेट चौराहा पर लगने वाले जाम से लोग परेशान हैं। एक साल से तालाब चौराहा पर निर्माण कार्य चल रहा है। इसके कारण यातायात की समस्या और विकट हो गई है। तालाब चौराहा से कोतवाली सदर व जिला अस्पताल के मार्ग की हालत खस्ता है। निर्माणदायी संस्थाओं ने सर्विस लेन नहीं बनाई है, जिससे लोगों को दिक्कतें हो रही हैं। हर समय धूल उड़ती है, जो कि बीमारी की वजह बन रही है। इन सब समस्याओं से जूझ रहे लोगों की आस इस रेलवे पुल से है, लेकिन पुल का कार्य है कि पूरा होने का नाम नहीं ले रहा। मार्च 2020 तक इसका काम पूरा करना था, लेकिन विद्युत विभाग ने लाइन शिफ्टिग का ठेका उठाने में देरी कर दी जिसके कारण काम लटक गया। रेलवे ने तीन महीने तक पाइलिग का काम बंद रखा। नतीजतन अब तय समय सीमा से काफी पिछड़ चुके हैं। जुलाई 2020 तक काम पूरा होता नहीं दिख रहा।

कारण है कि तालाब चौराहा से 11केवी लाइन शिफ्ट होने के बाद पिछले सप्ताह से रेलवे ने काम शुरू किया है। सोमवार को पाइलिग की शुरुआत की गई। सात पाइलिग होनी है। इसके बाद पिलर खड़े करने हैं तथा गार्डर डाले जाने हैं। इन सब काम में कम से कम तीन महीने का समय लगने की संभावना है। रेलवे का काम पूरा होने के बाद सेतु निगम अपना शेष काम करेगी। इसमें भी दो से तीन महीने का समय लगेगा। अभी लाइन शिफ्टिग का काम भी शेष है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस