जासं, हाथरस : चाइनीज वस्तुओं और आनलाइन शापिग के विरोध में स्वदेशी जागरण मंच आगे आया है। मंच ने आनलाइन शापिग का विरोध करते हुए जनसंपर्क अभियान शुरू किया है। मंच के कार्यकर्ता लोगों को अमेजन, फ्लिपकार्ट और अन्य चाइनीज कंपनियों से ऑनलाइन शॉपिग व्यापार से हो रहे खुदरा व्यापारियों को नुकसान के बारे में समझा रहे थे।

मंच के कार्यकर्ता जनसंपर्क के दौरान- 'आनलाइन व्यापार धोखा है, रोजगार बचा लो मौका है।' 'बंद करो, बंद करो आनलाइन शापिग बंद करो' के नारे लगा रहे थे। साथ ही कार्यकर्ता दीपावली पर चीन की वस्तुओं के पूर्ण बहिष्कार का आह्वान कर रहे थे। इसी विरोध अभियान के तहत स्वदेशी यात्रा, व्यापार बचाओ, रोजगार बचाओ अभियान, पुतला दहन जैसे कार्यक्रम किए जाएंगे। संपर्क अभियान में संरक्षक देवेंद्र शर्मा, जिला संयोजक अजय राघव, नगर संयोजक नरेंद्र बंसल, जिला विचार मंडल प्रमुख राधेश्याम वाष्र्णेय, सह जिला संयोजक प्रभुदयाल, दीपक कुशवाहा, दाऊदयाल शर्मा, मुकेश कुशवाहा, ब्रजेश कुमार रघुवीर गोला, नंद किशोर ने भाग लिया।

त्योहारी सीजन में बढ़ी

है आनलाइन शापिग

आजकल आनलाइन शापिग का क्रेज बढ़ा है। घर बैठे इलेक्ट्रोनिक सामान अधिक मंगाए जा रहे हैं। इसमें मोबाइल फोन के अलावा मोबाइल ऐसेसरीज भी शामिल हैं। इसके अलावा अन्य सामान भी खूब मंगाए जा रहे हैं। इसका असर फुटकर बाजार पर पड़ा है। बाजार में आनलाइन शापिग फुटकर बाजार को कड़ी चुनौती दे रही है। रेडीमेड कपड़ों के अलावा दैनिक उपभोग की वस्तुओं को भी आनलाइन मंगाया जा रहा है। पराली जलाने पर लगेगा

पांच हजार का जुर्माना

संस, हाथरस: पराली जलाने से प्रदूषण कई गुना बढ़ जाता है। पराली जलाने की घटनाओं को कम कराने के लिए कृषि विभाग सक्रिय हो गया है। इस समय धान की फसल खेतों से उठाने का कार्य तेजी से चल रहा है। जिले में सबसे अधिक धान सिकंदराराऊ व हसायन क्षेत्र में होता है। कृषि विभाग ने धान की पराली जलाने की घटनाओं को रोकने के लिए न्याय पंचायत स्तर पर कर्मियों की ड्यूटी लगाई है। जिला कृषि रक्षा अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि दो एकड़ से कम पर ढाई हजार, पांच एकड़ तक पांच हजार व पांच एकड़ से अधिक की पराली जलाने पर पंद्रह हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। उन्होंने पराली नहीं जलाने की अपील किसानों से की है।

Edited By: Jagran