जासं, हाथरस : रविवार को डीएम के साथ ग्राम प्रधानों का वर्चुअल संवाद होना था, मगर ऐन वक्त पर इसे टाल दिया गया। जरूरी काम से डीएम को बाहर जाना पड़ा। ऐसे में सचिवों की मौजूदगी में 262 प्रधानों ने पहली बैठक की जिसमें कोरोना से निपटने और गांव के विकास कार्यों पर चर्चा हुई।

जनपद के कुल 463 ग्राम पंचायतों में पहली बार 201 प्रधान ही शपथ ले पाए थे। ग्राम पंचायत सदस्यों का कोरम पूरा न होने से 262 ग्राम प्रधान शपथ नहीं ले पाए थे। हाल ही में ग्राम पंचायत सदस्यों का निर्वाचन होने के बाद बाकी 262 प्रधानों को भी शपथ दिलाई गई।

डीएम रमेश रंजन के साथ रविवार को इन 262 प्रधानों के साथ वर्चुअल संवाद होना था, जिसे ऐन वक्त पर टाल दिया गया। पंचायतघरों पर बैठक के नोटिस चस्पा कर दिए गए थे। उसी के अनुसार पंचायतों पर पहली बैठक हुई, जिसमें कोरोना के नियमों का पालन करते हुए पंचायत क्षेत्र के विकास कार्यो को लेकर चर्चा की गई। ग्राम पंचायत के विकास पर दिया जोर

संसू, सादाबाद : शपथ ग्रहण के बाद ग्राम प्रधानों पर ग्राम पंचायत के विकास की जिम्मेदारी आ गई है। ग्राम विकास अधिकारी राजेश किग ने गांव मंस्या, जैतई में प्रधान व सदस्यों के साथ बैठक कर विकास की रूपरेखा तैयार की। क्षेत्र के गांव मंस्या, जैतई, रहपुरा में हुई विकास संबंधी बैठक में ग्राम विकास अधिकारी ने लोगों को रोजगार दिए जाने, मनरेगा कार्य, ग्रामीण क्षेत्र में अन्य सुविधाओं को लेकर विस्तृत चर्चा की। प्रधानों ने भी लोगों को विश्वास दिलाया है कि बिना किसी भेदभाव के ग्राम पंचायत में विकास कार्य कराए जाएंगे। गांव जैतई में हुई बैठक में प्रधान गीता देवी, रामकिशन, भूप सिंह राणा, मीकू राणा, गांव रहपुरा में हुई बैठक में प्रधान पुष्पेंद्र उपाध्याय, शिव प्रताप चौहान, विक्रम सिंह, अशोक त्यागी, होशियार सिंह, मुनेश पंडित मौजूद रहे। मंस्या में हुई बैठक में प्रधान कन्हैया लाल आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran