जासं, हाथरस : मेरठ से शुक्रवार को लापता हुई सेना के जवान की बेटी को हाथरस पुलिस ने बरामद कर लिया है। 12 वर्ष की बच्ची रोडवेज बस में मिली है। उसके अपहरण का मुकदमा दोपहर में ही मेरठ के लालकुर्ती थाने में दर्ज कराया गया था। बच्ची बस में कैसे आई, अभी उसने कुछ भी नहीं बताया है। पिता और सेना के अन्य अधिकारी हाथरस के लिए रवाना हो गए थे।

मेरठ कैंट में सूबेदार सचिन आवाटे 122/6 एसआरसी लाइन कसेरूखेड़ा थाना लालकुर्ती स्थित क्वार्टर में रहते हैं। उनकी 12 वर्षीय बेटी वंशिका सचिन आवाटे शुक्रवार की सुबह आठ बजे स्कूल गई थी। वह केंद्रीय विद्यालय सिख लाइन में कक्षा सातवीं की छात्रा है। दोपहर को बच्ची घर नहीं लौटी तो स्वजन को चिता हुई। उन्होंने स्कूल जाकर जानकारी की तो पता चला कि बच्ची स्कूल आई ही नहीं है। इस मामले की रिपोर्ट थाना लालकुर्ती में दर्ज कराई गई। इसके बाद से मेरठ पुलिस बच्ची की तलाश में जुटी थी। बस कंडक्टर ने अकेली बच्ची को देखा तो शक हुआ। उसने पुलिस को सूचना दे दी। हाथरस-आगरा जनपद की सीमा पर स्थित बरौस टोल प्लाजा पर सादाबाद कोतवाली की पुलिस को चेकिग के दौरान रोडवेज बस में बच्ची सकुशल मिल गई। बच्ची अकेली ही बस में बैठी थी। इस संबंध में मेरठ पुलिस को सूचना दे दी गई थी। बच्ची के पिता और सेना के अन्य अधिकारी हाथरस के लिए रवाना हो गए थे। एसपी विनीत जायसवाल ने बताया कि बच्ची के अपहरण का मुकदमा मेरठ में दर्ज कराया गया था। बच्ची के बस में बैठे होने की जानकारी मिली थी। बच्ची को सकुशल बरामद कर लिया है। वह कुछ भी बता नहीं रही है।

Edited By: Jagran