जागरण टीम, हाथरस : राजस्थान के उदयपुर में कन्हैया की निर्मम हत्या के विरोध में यहां भी लोगों में भारी आक्रोश है। बुधवार को घटना को लेकर राष्ट्रपति के नाम विभिन्न संगठनों ने ज्ञापन सौंपा और दोषियों पर कठोर कार्रवाई की की मांग की। विरोध प्रदर्शन के बाद ज्ञापन

हिदू जागरण मंच के दर्जनों कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए हाथरस सदर तहसील पहुंचे और उदयपुर में हिदू युवक कन्हैयालाल की दिनदहाड़े नृशंस हत्या के विरोध में प्रदर्शन किया।

उप जिलाधिकारी सदर एवं पुलिस क्षेत्राधिकारी सदर को ज्ञापन सौंपा। हिदू जागरण मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष अभिषेक रंजन आर्य ने कहा कि यह घटना बताती है कि भारत में आइएसआइएस का पदार्पण हो चुका है क्योंकि हत्या का तरीका आइएसआइएस के आतंकवादियों द्वारा की जाने वाली हत्याओं से बिल्कुल मिलता जुलता है। देश की सरकार और हिदुओं को अब सावधान होने की जरूरत है। हिदू जागरण मंच के जिला अध्यक्ष संदीप शर्मा ने कहा कि जब से कांग्रेस की सरकार राजस्थान में बनी है तब से हिदुओं पर लगातार अत्याचार की घटनाएं हो रही हैं। जिला महामंत्री नरेंद्र प्रेमी ने कहा कि यदि ऐसी घटनाओं को रोकने के लएि सरकार ने कड़े कदम उठाकर भविष्य में होने से नहीं रोका तो हिदू समाज को भी अपनी सुरक्षा की चिता स्वयं ही करनी पड़ेगी।

सासनी में हिदू जागरण मंच के पदाधिकारियों ने तहसील परिसर में एकत्रित होकर उप जिलाधिकारी को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। उसमें कन्हैया के हत्यारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। कहा कि यदि इस प्रकार की घटनाओं को सख्ती से नहीं रोका गया तो हिदू समाज को भी अपनी रक्षा के लिए स्वयं सड़कों पर उतरने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। उप जिलाधिकारी अंजलि गंगवार को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपते हुए हिदू जागरण मंच के पदाधिकारियों ने कहा की राजस्थान के उदयपुर में कट्टरपंथियों कि तालिबानी सोच रखने वालों की अराजकता बर्दाश्त के बाहर है। यह देश को अराजकता की आग में झोंकने की बड़ी साजिश है। नुपुर शर्मा के बयान के समर्थन को आधार बनाकर निर्मम हत्या की गई। हत्या करने वालों का दुस्साहस देखिए कि किस प्रकार से उन्होंने इंटरनेट मीडिया पर हत्या करते समय का वीडियो डाला और देश के प्रधानमंत्री को भी चुनौती दी है। यह सीधे-सीधे देश द्रोह भी है। हिदू समाज को धमकी देने वाले जिहादी मानसिकता वाले लोगों के खिलाफ कड़े कानून बनाने की जरूरत है। ज्ञापन देने वालों में रमन बिहारी शर्मा, राज भारद्वाज, अरविद शर्मा, गिरीश पाठक, विनय रावत, दिनेश रावत, जय प्रकाश शर्मा, एवं अन्य हिदू जागरण मंच के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे। सादाबाद में एसडीएम को ज्ञापन

इंटरनेट मीडिया पर नुपुर शर्मा का समर्थन करने पर राजस्थान के उदयपुर में दर्जी कन्हैया की सरेआम गला रेत कर हत्या से यहां भी हिदू समाज में भारी आक्रोश है। हिदू जागरण मंच ने रोष व्यक्त किया है। बुधवार को चेयरमैन रविकांत अग्रवाल की अगुवाई में राष्ट्रपति के नाम एसडीएम शिव सिंह को ज्ञापन सौंपकर राजस्थान सरकार को बर्खास्त करने की मांग की गई। ज्ञापन के माध्यम से राष्ट्रपति से मांग की गई है कि कानून व्यवस्था को खुली चुनौती देने वाले हत्यारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। राजस्थान में जब से कांग्रेस सरकार बनी है तब से लगातार हिदुओं पर हमले हो रहे हैं। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि उपद्रवियों को राजस्थान सरकार और प्रशासन का संरक्षण प्राप्त है। ऐसी सरकार को तत्काल बर्खास्त करने की आवश्यकता है। इस घटना को लेकर आरोपित खुलेआम धार्मिक नारे लगा रहे हैं। प्रधानमंत्री को भी धमकी दी गई है। इस हत्या के पीछे कौन सी ताकत है, उसका पर्दाफाश होना चाहिए। इस घटना की जांच सीबीआइ या किसी केंद्रीय जांच एजेंसी द्वारा होनी चाहिए। घटना को अंजाम देने का उद्देश्य देश के हिदू समाज को आतंकित करना भी है। हिदू समाज को धमकी देने वाले जिहादी मानसिकता के लोगों के लिए कठोर कानून बनाने की जरूरत है। कन्हैया ने घटना से पहले धमकी दिए जाने के मामले में शिकायत देकर सुरक्षा मांगी थी लेकिन पुलिस ने उसे सुरक्षा मुहैया नहीं कराई। इसे लेकर लापरवाही बरतने वाले पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। अगर सरकार इस घटना के बाद हिदू समाज की रक्षा के लिए जरूरी कदम नहीं उठाएगा तो हिदू समाज को सड़कों पर उतरना होगा।

Edited By: Jagran