जासं, हाथरस : सहालग का सीजन चल रहा है। परिधानों और ज्वेलरी के साथ दुल्हनों का कायाकल्प करने में ब्राइडल मेकअप का भी क्रेज है। ऐसे में पैकेजिग से सौंदर्य से और निखार आ जाता है। यह मेकअप दुल्हन तक ही सीमित नहीं रहा, बल्कि दूल्हे भी डायमंड और गोल्ड फेशियल से अपना रूप निखार रहे हैं।

शादी में वधू के सौंदर्य में परिधानों व ज्वेलरी के साथ उनके रूप को निखारने पर विशेष जोर दिया जाता है। इसके लिए ब्यूटीपार्लरों में तरह-तरह के मेक अप की सुविधा है। यह मेकअप पैकेज में भी उपलब्ध हैं। कोरोना काल को देखते हुए सुरक्षित मेकअप पर भी ध्यान दिया जा रहा है। इसमें थ्री डी, एचडी, स्टूडियो और एयरब्रश मेकअप शामिल हैं। यह मेक अप पांच हजार से आठ हजार रुपये तक में कराए जा सकते हैं। पैकेजिग में फेशियल, वैक्स, मैनिक्योर, बॉडीक्योर, हेयर स्पॉ, बॉडी मसाज के साथ बॉडी पॉलिशिग, आइ ब्रो, थ्रेडिग, हेयर कट भी शामिल है। यह पैकेज 15000 रुपये तक में उपलब्ध है। यहां तक की मेहंदी और आट्रीफिशयल ज्वैलरी भी शामिल हैं। दूल्हों में डायमंड और गोल्ड फेशियल की डिमांड

दूल्हे भी किसी से कम नहीं हैं। हेयर स्टाइल के साथ चेहरे पर निखार लाने के लिए ओथ्री, कायाकल्प, गोल्ड व डायमंड फेशियल उपलब्ध है। यह एक हजार से दो हजार रुपये तक में हो जाते हैं। पार्लर के खर्चे

मेकअप, चार्ज (रुपये में)

थ्रीडी, 5000

एचडी, 7000

एयरब्रश, 8000

पैकेजिग, 15000 इनका कहना है

शादी के सीजन में एचडी, एयरब्रश के साथ स्टूडियो मेकअप भी खास पसंद किया जा रहा है। कोरोना को देखते हुए सुरक्षित मेकअप का भी ध्यान रखा जा रहा है। दूल्हे भी कायाकल्प कराने के लिए मेकअप करा रहे हैं।

परवेज आजमी, ब्यूटी पार्लर संचालक पैकेजिग में दुल्हनों को मेहंदी के साथ उनके सौंदर्य में निखार लाने के लिए ज्वेलरी भी दे रहे हैं। दुल्हनों को सजाने में थ्रीडी, एचडी और एयर ब्रश मेक अप की भी डिमांड है।

रितु अरोरा, ब्यूटी पार्लर संचालक

रिश्तेदारों में कटौती, परमीशन की चिता

जासं, हाथरस : देवोत्थान एकादशी से सहालग शुरू हो रहे हैं। शादी विवाह को लेकर लोगों में उत्साह था, लेकिन कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या व प्रशासन की सख्ती के कारण लोगों के अरमानों पर पानी फिर रहा है। अब नाते-रिश्तेदारों व मित्रों की सूची में कटौती करते हुए संख्या घटाया जा रहा है। मेन्यू में भी कटौती की जा रही है। ऐसे में प्रशासन से अनुमति की चिता फिर सैनिटाइजर आदि की व्यवस्था भी सता रही है।

अलीगढ़ रोड स्थित इंद्रा नगर कालोनी के रहने वाले सौरभ का कहना है कि 11 दिसंबर को उनकी बहन की शादी है। अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई तो शादी को लेकर उत्साह था। बहन की शादी को लेकर तमाम इच्छाएं थीं, लेकिन प्रशासन की सख्ती से सभी अरमान ठंडे पड़ गए हैं। शादी को लेकर मात्र सौ लोगों की परमीशन मिली है। ऐसे में नाते, रिश्तेदारों के अलावा मित्रों में भी कटौती की जा रही है।

मेंडू के रहने वाले धर्मेश बाबू का कहना है कि तीस नवंबर को उनके बेटे की शादी है। इसके लिए वे परमीशन ले रहे हैं। मात्र अस्सी से सौ लोगों की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि दावत में भी परिवर्तन किया है। पहले तो व्यवस्था ढाई से तीन सौ लोगों की थी, बरातियों की संख्या भी कम की गई है। कई स्टॉल व कार्यक्रमों में कटौती की गई है।

मालिन गली के सुरेश कुमार का कहना है कि अगले माह उनकी बेटी की शादी है। व्यवस्था तीन-चार सौ लोगों की तय हुई थी, लेकिन कोरोना के कारण प्रशासन की सख्ती ने अरमानों पर पानी फेर दिया है। आमंत्रित लोगों की संख्या कम की गई है। वहीं हलवाई से भी स्टॉल आदि में कटौती कराते हुए दिन की शादी की ही व्यवस्था करनी पड़ी है। शाम को बिटिया की विदाई कर दी जाएगी। अनुमति की कार्यवाही भी अमल में लाई जा रही है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस