संवाद सूत्र, हाथरस : मई -खंदौली मार्ग पर स्थित अंग्रेजी शराब के ठेके के पीछे झाड़ियों में शव मिलने से सनसनी फैल गई। बाद में जेब से मिले कागजात के आधार पर उसकी शिनाख्त हुई।

मई निवासी 43 वर्षीय मैना दिल्ली में मेहनत मजदूरी करता था। वह बकरीद से एक दिन पहले ही गांव आया था। गांव में आने के बाद उसका कोई पता नहीं चल सका था। इस मामले में स्वजन ने इलाका पुलिस को कोई जानकारी नहीं दी थी। सोमवार को तड़के शराब ठेके के पीछे से आ रही बदबू के कारण जब लोग वहां देखने पहुंचे तब झाड़ियों में शव पड़ा दिखा। सूचना पाकर चौकी से पुलिसकर्मी पहुंचे। शव कई दिन पुराना होने से लोग पहचान नहीं पा रहे थे। बाद में एसएचओ डीके सिसोदिया भी मौके पर पहुंचे। पुलिस कर्मियों ने युवक की जेब की तलाशी ली तो उसमें पर्स निकला। पर्स में कुछ रुपये, आधार कार्ड तथा अन्य कागजात थे। आधार कार्ड के आधार पर उसकी शिनाख्त हो सकी। तब स्वजन को जानकारी दी गई। शव पर किसी तरह की चोट आदि के निशान नहीं थे। पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था।

पत्नी की मौत के बाद पुत्र

कर रहा परेशान, दी तहरीर

संसू, सादाबाद : मोहल्ला इमलियान निवासी मशहूर आलम पुत्र हाजी अब्दुल रशीद खां उर्फ बुंदे खां ने कोतवाली में तहरीर देकर कहा है कि उसकाएक पुत्र है जो असलहा लाइसेंस धारक है। उनके नाम भी राइफल का लाइसेंस है। सोमवार को उनके पुत्र ने उनकी पासबुक, चेक बुक, आधार कार्ड, पैन कार्ड तथा वोटर कार्ड व पासपोर्ट आदि कागजात छीन लिए। बेइज्जती करते हुए गाली गलौज की तथा जान से मारने की धमकी दी। तीन माह पूर्व उनकी पत्नी का निधन हो गया था। मरने से पूर्व लाकर की चाबी उसने पुत्र को दी थी। तब से उसने दु‌र्व्यवहार करना प्रारंभ कर दिया और अब संपत्ति को लेकर गोली मारने को तैयार है। घर में घुसकर गांव के

लोगों ने की मारपीट

संसू, सादाबाद : ऊंचागांव निवासी उदयवीर सिंह पुत्र सरवन सिंह ने कोतवाली में शिकायत पत्र देकर कहा है कि 25 जुलाई को करीब 9 बजे अपने घर पर आराम कर रहे थे। उसी समय उनके पड़ोस में झगड़ा हो रहा था, जिसे उनके बच्चे अपने घर से देख रहे थे। तभी गांव के कुछ युवक शराब के नशे में उनके घर में घुस गए और लाठी तथा सरिया से प्रहार शुरू कर दिया जिससे उन्हें चोटें आई हैं। इन लोगों ने उनके घर में तोड़फोड़ भी की।

बिसावर में छत पर पढ़ रहे दो

छात्रों पर बंदरों ने किया हमला

संसू, बिसावर : बिसावर क्षेत्र में बंदर बहुत उत्पात मचा रहे हैं। रविवार की शाम को विवेक पुत्र बिजेंद्र सिंह व ईशांत कुमार पुत्र हरिकिशन सिंह छत पर पढ़ाई कर रहे थे, तभी बंदरों ने उनको घेर लिया। दोनों छात्रों पर हमला बोल दिया। हाथ-पैर आदि जगहों पर बुरी तरह काटकर घायल कर दिया। दोनों के शोर मचाने पर परिजन डंडे लेकर दौड़े और बंदरों को भगाया।

Edited By: Jagran