संस, हाथरस: नवरात्र का पर्व चल रहा है। ऐसे में घरों व्रत रखे जा रहे हैं। वहीं मुस्लिमों का पर्व रमजान माह भी शुरू हो चुका है। गर्मी के मौसम में फलों की खपत भी बढ़ जाती है। ऐसे में फलों की कीमतें आसमान छूने लगी हैं। फलों के दाम एक सप्ताह में डेढ़ गुना तक बढ़ गए हैं।

फल व सब्जियों के दाम भी आसमान छू रहे हैं। भीषण गर्मी को देखते हुए फलों की कीमतों में अचानक उछाल आ गया है। वहीं नवरात्र व रमजान के चलते भी फलों का सेवन बढ़ गया है। व्रत रखने वाले फलाहार से काम चलाते हैं। वहीं रोजा रखने वाले इफ्तार फलों के सेवन व उसके जूस से ही करते हैं। एक सप्ताह पहले 20 रुपये प्रति किलोग्राम बिकने वाला केला 30 रुपये हो गया है। 100 रुपये के भाव बिकने वाला सेब 150 रुपये में बिक रहा है।

दक्षिणी राज्यों से हो रही फलों की आपूर्ति

फलों की सबसे अधिक आपूर्ति दक्षिणी राज्यों से हो रही है। इनमें अंगूर जलगांव, केला भुसावल, संतरा नागपुर से आ रहा है। वहीं सेब व अनार की आपूर्ति जम्मू-कश्मीर व हिमाचल से हो रही है। इसके अलावा कर्नाटक, गुजरात, आंध्रप्रदेश से भी पपीता, चीकू, कीवी व अन्य फलों की आपूर्ति हो रही।

फल सात दिन पहले भाव, अब के भाव

केला, 20, 30

अंगूर, 40, 60

चीकू, 30, 50

कीवी, 300, 400

संतरा, 60, 80

सेब, 100, 150

पपीता, 20, 30

खजूर, 80, 120

(नोट- फलों के दाम रुपये प्रति किलोग्राम हैं)

इनका कहना है:

फलों की आवक कम होने से ही फलों पर तेजी बढ़ गई है। वहीं मंडी से ही फल महंगे आ रहे हैं। ग्राहक कम निकलने से बिक्री भी कम हो रही है।

- चिरंजीलाल, दुकानदार

नवरात्र व रमजान में फलों की बिक्री खूब हुआ करती थी। अब फलों के महंगे होने से ग्राहकों का रुझान भी कम हो गया है। सस्ते वाले फल अधिक बिक रहे हैं।

- मूलचंद, दुकानदार

Edited By: Jagran