संवाद सहयोगी, हाथरस : होली के दिन हाथरस जंक्शन के गांव बोजिया में जानलेवा हमले में एक व्यक्ति की मौत के मामले में सात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। पुलिस ने विवेचना में तीन आरोपितों के नाम निकाल दिए। इससे गुस्साए परिजनों व ग्रामीणों ने रविवार दोपहर सोखना के निकट मथुरा-बरेली मार्ग पर जाम लगा दिया। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया तब जाम खोला।

होली के दिन 21 मार्च को हाथरस जंक्शन के गांव बोजिया में विजय सिंह के ऊपर जानलेवा हमला किया गया था, जिसमें वह बुरी तरह जख्मी हो गए थे। उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई थी। इस मामले में गांव बोजिया के ही कमल सिंह, अनिल, दान सिंह, रधुन, राजेश कुमारी तथा पड़ोस के गांव धौला कुआं निवासी अजीत और अंकित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। विवेचना के दौरान करीब डेढ़ माह पूर्व रेलवे में तैनात कमल सिंह, दान सिंह और महिला राजेश कुमारी का नाम पुलिस ने निकाल दिया और चारों आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर दी। विवेचना में तीन लोगों के नाम निकाले जाने से गुस्साए मृतक के परिजन और ग्रामीण रविवार को एकत्रित होकर मथुरा-बरेली मार्ग पर गांव सोखना के निकट जमा हुए और पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए जाम लगा दिया। सूचना मिलने पर एडीएम डॉ. अशोक शुक्ला, सीओ सिटी रामशब्द के अलावा कोतवाली हाथरस गेट के इंस्पेक्टर जितेंद्र दीखित व पूर्व ब्लॉक प्रमुख रामेश्वर उपाध्याय मौके पर पहुंचे। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने पीड़ितों व ग्रामीणों को समझा-बुझाकर शांत किया और जाम खुलवाया। आधा घंटा तक जाम लगे रहने के कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा।

इनका कहना है

चार आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में भेजी जा चुकी है। तीन लोगों के नाम विवेचना के दौरान डेढ़ माह पूर्व विवेचक ने निकाल दिए थे। मृतक के भतीजे भोला ने कुछ दिन पूर्व कमल सिंह के घर का दरवाजा ट्रैक्टर से तोड़ दिया था, जिसकी रिपोर्ट कमल सिंह के परिजनों ने भोला खिलाफ दर्ज कराई थी। इसी के चलते दवाब बनाने के लिए परिजन और अन्य लोगों ने जाम-प्रदर्शन किया।

-मनोज शर्मा, एसएचओ हाथरस जंक्शन

Posted By: Jagran