जागरण संवाददाता, हाथरस: जिले की 463 ग्राम पंचायतों में रिक्त 2672 ग्राम पंचायत सदस्यों की चुनाव प्रक्रिया के तहत सोमवार को नाम वापस लिए गए। इसके लिए सभी सातों ब्लाक कार्यालयों में दिनभर दावेदार जमे रहे। हाथरस ब्लाक में रिक्त 377 पदों में से 376 निर्विरोध निर्वाचित हो गए। कुल 10 नामांकन पत्र वापस लिए गए जिसके बाद यह स्थिति बनी। यहां कुल 61 ग्राम पंचायतें हैं। बाकी ब्लाकों पर कितने नामांकन वापस हुए, इसके आंकडे़ जुटाने में देर रात तक प्रशासन लगा रहा। मुख्य विकास अधिकारी आरबी भास्कर ने बताया कि मंगलवार की सुबह तक सभी आंकडे़ आ जाएंगे। इसके बाद चुनाव चिह्न आवंटित कर दिए जाएंगे। मतदान 12 जून को होना है। अब हाथरस छोड़कर सादाबाद, सिकंदराराऊ, सासनी, हसायन, मुरसान व सहपऊ ब्लाक में उप चुनाव को लेकर सरगर्मी जारी रहेगी। सासनी में नाम वापसी के बाद 60 सदस्यों के चुनाव की उम्मीद

संसू, सासनी : क्षेत्र की 74 ग्राम पंचायतों में 521 सदस्यों के पद रिक्त थे। सोमवार को नाम वापसी के साथ 15 ग्राम पंचायतों में मात्र 60 सदस्यों के लिए मतदान संभावित है। सभी ग्राम पंचायतों में सदस्यों के करीब 711 नामांकन दाखिल किए गए थे। नाम वापसी के बाद 59 ग्राम पंचायतों में 461 सदस्य निर्विरोध चुने गए हैं। शेष के लिए नव निर्वाचित प्रधान अधिकांश पंचायतों में निर्विरोध निर्वाचन की कोशिशों में लगे रहे। मुरसान विकास खंड में कुल 524 नामांकन हुआ था जिसमें 468 निर्विरोध हुए और 56 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र वापस लिए।

आरओ पर लगाए आरोप

संसू, हसायन : विकास खंड कार्यालय पर ग्राम पंचायत सदस्यों के नामांकन पत्र निरस्त होने की सूचना पर प्रत्याशी भड़क गए। आरओ और एआरओ पर आरोप लगाया कि प्रधानों की मिलीभगत से पर्चे निरस्त किए जा रहे हैं, जबकि रविवार को नामांकन पत्रों को वैध माना था। आरओ तहसीलदार ठाकुरदास ने इस संबंध में कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया।

Edited By: Jagran