संवाद सूत्र, हाथरस : उपजिलाधिकारी सादाबाद व ड्रग इंस्पेक्टर ने सोमवार को सहपऊ के गांव उधैना स्थित परचून की दुकान पर छापेमारी की। यहां से चार हजार प्रतिबंधित आक्सीटोसिन इंजेक्शन जब्त किया। दो नमूने जांच के लिए लखनऊ प्रयोगशाला भेजा गया। जल्द ही आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।

उप जिलाधिकारी सादाबाद अंजली गंगवार को सूचना मिली थी कि गांव उधैना स्थित एक परचून की दुकान पर प्रतिबंधित इंजेक्शन बेचे जा रहे हैं। औषधि निरीक्षक दीपक कुमार तथा पुलिस बल लेकर गौरव प्रोविजन स्टोर पर छापेमारी की। इस दौरान 39 डिब्बे बंद तथा एक खुले डिब्बे में दो अलग-अलग बैच नंबरों के प्रतिबंधित इंजेक्शन मिले। ड्रग इंस्पेक्टर ने बताया कि मौके से दो नमूने लिए गए हैं। नमूनों की जांच रिपोर्ट प्राप्त होने एवं प्रकरण की विवेचना के बाद गौरव कुमार के विरुद्ध न्यायालय में परिवाद दाखिल किया जाएगा। दूधिये और किसान करते हैं उपयोग

आक्सीटोसिन इंजेक्शन का प्रयोग आमतौर पर गाय-भैंसों में बच्चा जनने के समय अथवा बच्चे की मौत होने पर दूध निकालने के लिए किया जाता है। दूधिये अपने मवेशियों पर अवैध तरीके से इसका प्रयोग करते हैं। व्यावसायिक खेती करने वाले किसान भी चोरी छिपे इस इंजेक्शन का प्रयोग सब्जियों की वृद्धि के लिए करते हैं। ड्रग इंस्पेक्टर दीपक कुमार की मानें तो पिछले दस साल में यह सबसे बड़ी कार्रवाई है। इसकी रोकथाम के लिए ही क्रूरता एक्ट के तहत पशुपालन विभाग की शिकायत पर धरपकड़ की कार्रवाई फूड सेफ्टी एंड ड्रग अथारिटी स्तर पर होती है। घर में घुसकर गांव के

लोगों ने की मारपीट

संसू, सादाबाद : ऊंचागांव निवासी उदयवीर सिंह पुत्र सरवन सिंह ने कोतवाली में शिकायत पत्र देकर कहा है कि 25 जुलाई को करीब 9 बजे अपने घर पर आराम कर रहे थे। उसी समय उनके पड़ोस में झगड़ा हो रहा था, जिसे उनके बच्चे अपने घर से देख रहे थे। तभी गांव के कुछ युवक शराब के नशे में उनके घर में घुस गए और लाठी तथा सरिया से प्रहार शुरू कर दिया जिससे उन्हें चोटें आई हैं। इन लोगों ने उनके घर में तोड़फोड़ भी की।

Edited By: Jagran