संसू, हाथरस : सादाबाद में साढ़े आठ क्विटल गांजा पकड़े जाने के मामले में आरोपित अभी पुलिस की पकड़ में नहीं आया है। अलबत्ता उसकी लोकेशन के आधार पर पुलिस ने भरतपुर और खुर्जा में दबिश दी। अभी वह हाथ नहीं लगा है।

सादाबाद में हाथरस रोड स्थित भार्गव कालोनी में निर्माणाधीन प्लॉट पर 22 अक्टूबर को तड़के करीब पांच बजे पुलिस व एसओजी की संयुक्त छापेमारी में 840 किलो गांजा, एक ट्रक व एक होंडा अमेज कार के अलावा दो मोबाइल फोन मौके से बरामद किए गए थे। पुलिस की पड़ताल में पकड़ा गया ट्रक अमर सिंह पुत्र पूरन सिंह निवासी मीरा कटरा, शिकोहाबाद (फीरोजाबाद) का तथा होंडा अमेज गाड़ी संगीता अग्रवाल पत्नी विशाल अग्रवाल निवासी सिकंदरा (आगरा) की पाई गई। निर्माणाधीन मकान शौर्य कुमार अग्रवाल पुत्र विशाल अग्रवाल निवासी 35, द्वारिकापूरी शास्त्रीपुरम (आगरा) के नाम पर मिला। कार मालकिन व प्लाट स्वामी मां-बेटे होने के कारण पुलिस का पूरा शक शौर्य अग्रवाल पर गया। पुलिस ने आगरा में जब जांच की गई तो पता चला कि शौर्य अग्रवाल के पिता विशाल भी गांजा तस्कर हैं और दो बार जेल भी जा चुके हैं। पिता-पुत्र की लोकेशन को ट्रेस करते हुए लगातार पुलिस दबिश दे रही है। अब तक भरतपुर व मथुरा में लोकेशन के आधार पर दबिश दी गई, लेकिन आरोपित पकड़ में नहीं आया। गुरुवार को गांजा तस्कर की लोकेशन बुलंदशहर के खुर्जा में मिली। वहां भी दबिश दी गई। एसपी विनीत जायसवाल ने बताया कि राजस्थान में भरतपुर और अन्य जगहों पर दबिश दी गई है। जल्द ही आरोपित को गिरफ्तार किया जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस