जागरण टीम, हाथरस : जिले में बुखार और डेंगू घातक होता जा रहा है। मंगलवार को बुखार ने चार और लोगों को निगल लिया। हालात देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने शिविरों का दायरा बढ़ा दिया है। मलेरिया और डेंगू की जांच बड़े पैमाने पर कराई जा रही है।

सहपऊ क्षेत्र के गांव नगला मेवा में बुखार से चौदह वर्षीय किशोर रोहित की मौत हो गई। उसके पिता जयपाल सिंह ने बताया कि उसे तीन दिन पहले बुखार आया था। पास के ही प्राइवेट हॉस्पिटल में ले गए। तबीयत बिगड़ने पर आगरा ले गए। वहां एक एक निजी अस्पताल में उपचार चल रहा था। मंगलवार सुबह किशोर की मौत हो गई। किशोर के परिवार में बड़ी बहन सरिता (26) भी बीमार है और उसका भी प्राइवेट हास्पिटल में इलाज चल रहा है। सहपऊ के ही गांव कोकना कलां निवासी 13 वर्षीय खुशी की तीन दिन से तबीयत खराब चल रही थी। स्वजन उसे बेहतर उपचार के लिए आगरा लेकर जा रहे थे, लेकिन उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

चंदपा के गांव कैमार निवासी 18 वर्षीय दीक्षा कई दिन से बुखार से पीड़ित थी। पिता बंटी ने बताया कि सोमवार देर रात उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर आगरा ले जा रहे थे। हालत बिगड़ती देख बेटी को सीएचसी सादाबाद में भर्ती करा दिया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। पुरदिलनगर में राजेश पत्नी चंद्रपाल तीन दिन से बुखार से पीड़ित थी। मलखान सिंह जिला अस्पताल अलीगढ़ में उसका उपचार चल रहा था। सोमवार देर रात हालत बिगड़ने पर महिला को अलीगढ़ के मेडिकल कालेज के लिए रेफर कर दिया गया जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। इनका कहना है

चारों लोगों की मौत किन कारणों से हुई, इसकी जानकारी मृतकों के घर टीम भेजकर की जाएगी। मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि मौतों के क्या कारण है। गांवों में लगातार शिविर लगाकर जांच कराई जा रही है। वहीं मरीजों को चिह्नित कर बेहतर उपचार दिया जा रहा है।

डा. चंद्रमोहन चतुर्वेदी, सीएमओ, हाथरस। लगातार बढ़ रहा बुखार

पीड़ितों का आंकड़ा

बुखार और डेंगू के बढ़ते प्रकोप के कारण घर-घर लोग बीमार पड़े हुए हैं। सहपऊ के नगला मेवा में बुखार से पीड़ित मरीजों में सचिन कुमार, सपना, अंकित, राजकुमारी, सुनीता का उपचार चल रहा है। पुरदिलनगर में भी बुखार से करीब दस लोग बीमार पड़े हुए हैं। इनका उपचार सीएचसी पर कराया गया। मंगलवार को कुरसंडा में तेज बुखार व डेंगू की आशंका वाले मरीजों मे 25 वर्षीय शिवहर्ष, 23 वर्षीय प्रतीक कुमार, 10 वर्षीय परी, 11 वर्षीय मुकुल, 22 वर्षीय सौरव चाहर, 28 वर्षीय पूजा, 45 वर्षीय कल्पना देवी, 22 वर्षीय शिवम, 18 वर्षीय राखी, 20 वर्षीय राहुल, 37 वर्षीय नीलम शर्मा, 18 वर्षीय राखी, 20 वर्षीय राहुल को डेंगू की आशंका की शिकायत मिली। वहीं 18 वर्षीय सोनाली, 17 वर्षीय करिश्मा, 60 वर्षीय ठाकुरदास बुखार से पीड़ित हैं। प्रधान प्रतिनिधि रूपेंद्र सिंह नंबरदार के दो भतीजों को चिकित्सकों ने डेंगू की आशंका बताया है। उनका उपचार नोएडा के एक अस्पताल में चल रहा है। प्रधान प्रतिनिधि के भतीजे प्रतीक नंबरदार तथा शिवहर्ष नंबरदार नोएडा में भर्ती हैं। शिविरों से नहीं मिल रही राहत

स्वास्थ्य विभाग डेंगू और बुखार पीड़ितों के गांवों में लगातार टीमों को भेजकर शिविर लगवा रहा है। मच्छर का लार्वा टीमों के द्वारा तलाशा जा रहा है। मंगलवार को जिले के पुरदिलनगर, हसायन के बोनई, कुरसंडा, मुरसान में शिविर लगाकर मरीजों को दवाई वितरित कराई गई। इसके साथ ही लोगों का मलेरिया, डेंगू और कोविड 19 का आरटीपीसीआर टेस्ट कराया गया। लगातार जांच होने के कारण ही जिले में डेंगू और बुखार के मरीजों को चिह्नित किया जा रहा है।

Edited By: Jagran