जागरण संवाददाता, हाथरस : सरकारी गेहूं क्रय केंद्रों पर भले ही दलाल न होने से किसान राहत महसूस कर रहे हैं लेकिन गेहूं बेचने में किसानों को पसीने छूट रहे हैं। घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। दैनिक जागरण दूसरे अपने अभियान के दूसरे दिन भी गेहूं क्रय क्रेंदों की पड़ताल की तो पाया कि कई केंद्रों पर गेहूं का उठान नहीं हो पा रहा है, तो कई पर पर्याप्त लेबर ही नहीं हैं। सादाबाद मंडी समिति में दूसरे दिन भी खरीद नहीं हो सकी। सासनी व सिकंदराराऊ के कई केंद्र खाली नजर आए, क्योंकि यहां किसान गेहूं बेचने ही नहीं आए।

जिले में इस पर 63 गेहूं क्रय केंद्र खोले गए हैं। एक अप्रैल से इन पर खरीद भी शुरू हो गई है। अब तक लक्ष्य के सापेक्ष मात्र पौने नौ प्रतिशत ही गेहूं की खरीद हो पाई है। मौसम भी किसानों का साथ न देने के कारण किसानों को दिक्कतें हो रही हैं। दूसरी ओर किसानों को कई केंद्रों पर घंटों इंतजार करना पड़ता है क्योंकि वहां से गेहूं का उठान नहीं हो पा रहा है। इसके कारण किसानों को दिक्कतें हो रही हैं। स्थान न होने के कारण गेहूं वापस भी किया जा रहा है। सिकंदराराऊ के एचोला में दूसरी दिक्कत है। यहां गेहूं बेचने किसान नहीं आ रहे हैं। सादाबाद गेहूं क्रय केंद्र प्रभारी के फै्रक्चर हो जाने से लगातार दूसरे दिन भी किसान मायूस होकर लौट गए, क्योंकि पहले ही यहां पर किसानों का गेहूं रखा हुआ है। सहायक प्रभारी को अधिकार न होने के कारण वे गेहूं की खरीद नहीं कर रहे हैं। सहपऊ में आत्म साधन सहकारी समिति पर बेशक लदान शुरू हो गया लेकिन अभी तक यह पूरी तरह से नहीं हो सका है। बाहर खुले में गेहूं रखा हुआ है। कई केंद्रों पर तो वारदाने की भी दिक्कतें आ रही हैं। अभी भी सत्रह केंद्र ऐसे हैं जहां पर गेहूं का एक दाना भी नहीं खरीदा गया है। भीगा गेहूं नहीं ले रहे

मौसम के बिगड़े मिजाज के कारण किसानों का गेहूं भीग गया है। ऐसे में एचोला व मंडी समिति हाथरस से भी गीला गेहूं न खरीदे जाने की बात कह कर लौटा दिया गया। खरीद केंद्रों पर एक नजर

-63 सरकारी गेहूं क्रय केंद्र है जिले में।

-1735 रुपये प्रति कुंतल तय है समर्थन मूल्य।

-10 रुपये तुलाई, उतराई के दे रही है सरकार। किसानों का कहना है

गेहूं खरीद केंद्र पर इंतजार करना भारी पड़ रहा है। केंद्रों पर गेहूं का उठान नहीं हो पा रहा है, जिससे किसानों को दिक्कतें हो रही हैं, इन समस्याओं का निदान होना चाहिए।

प्रकाश चंद्र, किसान

गेहूं क्रय केंद्रों पर लदान शुरू हो गया है लेकिन अभी इंतजार करना पड़ेगा। प्रशासन को चाहिए कि गेहूं खरीदने के साथ-साथ उसका उठान भी होता रहे, ताकि किसानों को इंतजार न करना पड़े।

रामपाल, किसान दो दिन से सादाबाद मंडी समिति गेहूं खरीद केंद्र पर बैठा हूं लेकिन गेहूं की खरीद नहीं हो पा रही है। यहां पर नए अधिकारी की तैनाती की जानी चाहिए ताकि किसानों को सहूलियत मिले।

धर्मवीर ¨सह, किसान

सिस्टम की सुनो

हसायन केंद्र पर गेहूं खरीद नहीं हो रही है, सादाबाद में केंद्र प्रभारी को फ्रैक्चर होने से दिक्कत आ रही है, वहां पर जल्द ही व्यवस्था की जा रही है। मौसम साफ होते ही गेहूं की और आवक होगी। खरीद और उठान व्यवस्था बेहतर करने की कोशिशें जारी हैं। किसी भी स्तर पर लापरवाही सहन नहीं की जाएगी।

-रेखा एस चौहान, एडीएम, वित्त एवं राजस्व

By Jagran