संवाद सूत्र, हाथरस : हसायन कस्बा के पुरदिलनगर चौराहे के पास झोलाछाप चिकित्सक के यहां छापेमारी करने गई टीम को पकड़ लिया गया। टीम के पास से सीएमओ कार्यालय का पत्र व आइकार्ड निकला, जिसे छीन लिया गया। पुलिस को भी मौके पर बुला लिया गया।

कस्बा में पुरदिलनगर चौराहे के पास गड़ौला रोड पर स्वास्थ्य विभाग की एक संस्था सर्वे करने के लिए निजी चिकित्सक के यहां पहुंची। वहां मौजूद एमआर को टीम पर संदेह हुआ। सूचना देकर अन्य चिकित्सकों को वहां बुला लिया गया। चिकित्सकों ने संस्था की ओर से दिखाए गए मुख्य चिकित्सा अधिकारी हाथरस का पत्र व पहचान पत्र टीम से छीन लिया। चिकित्सकों ने सीएमओ कार्यालय में इसकी सूचना दे दी और 100 नंबर पर शिकायत दर्ज करा दी। मौके पर पुलिस पहुंच गई । पुलिस के पहुंचते ही मौके पर लोगों की भीड़ जुट गई। संस्था के कर्मचारियों का कहना था कि उन्हें दिल्ली से सर्वे के लिए भेजा गया है। उनका कार्य ग्रामीण क्षेत्र में स्थित क्लीनिकों का सर्वे करने का है। निजी चिकित्सक के यहां छापेमारी करने की सूचना पर डिप्टी सीएमओ डॉ. मधुर कुमार भी वहां पहुंचे। जब उन्होंने छापेमारी की बात पूछी तो संस्था के कर्मचारियों ने बताया कि उन्हें सर्वे का कार्य सौंपा गया है। पिछली साल हुई थी एफआइआर

हसायन क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग की फर्जी टीम बनकर झोलाछाप चिकित्सकों के यहां छापा मारने का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पूर्व पिछले साल भी एक झोलाछाप के यहां फर्जी टीम पहुंची थी। जो लोग स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बनकर गए थे। उनके खिलाफ हसायन थाने में सीएमओ के द्वारा रिपोर्ट दर्ज कराकर कार्रवाई कराई गई थी। इनकी सुनो

मेरी ओर से किसी भी संस्था को आइकार्ड व पत्र जारी नहीं किया गया। यदि कोई छापेमारी करने के लिए पहुंचा है तो यह गलत है। इस मामले की जांच पड़ताल कराई जा रही है। दोषियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराकर कार्रवाई कराई जाएगी।

डॉ. ब्रजेश राठौर,सीएमओ,हाथरस

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस