संवाद सहयोगी, हाथरस : जीपीएफ में कंपनी द्वारा घोटाले के बाद जिले के विद्युत कर्मचारियों में आक्रोश व्याप्त है। गुरुवार को तीसरे दिन उत्तर प्रदेश विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति पांच सूत्रीय मांगों को लेकर विद्युत वितरण मंडल कार्यालय ओढ़पुरा पर धरना-प्रदर्शन करते हुए कार्य का बहिष्कार किया।

धरने की अध्यक्षता संदीप अग्रवाल व संचालन महामंत्री राजा बाबू सारस्वत ने किया। विद्युत कर्मचारी संघ के पदाधिकारी एक्सईएन खान चंद्र ने कर्मचारियों को एक जुट रहकर आंदोलन करने को कहा। उन्होने कहा कि जो कर्मचारी एवं अधिकारियों के सीपीएफ व जीपीएफ का पैसा डीएचएफएल कंपनी को दिया गया है। उस पैसे की सुरक्षा सरकार को लेनी होगी तथा कर्मचारी व अधिकारियों को भरोसा दिलाना होगा कि उनका यह पैसा एकदम सुरक्षित है। एक्सईएन प्रथम सुभाष चंद्र ने कहा कि जिन अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सीपीएफ, जीपीएफ के रुपये का घोटाला किया है उन पर सख्त कार्रवाई हो। महामंत्री राजाबाबू सारस्वत ने विभाग के निजीकरण को रोकने एवं सविदाकर्मियों को नियमित करने के साथ रिक्त पदों पर भर्ती की मांग की। प्रदर्शन में राजा बाबू सारस्वत, खान चंद्र, राजकुमार, मुनीश कुमार, राज कुमार, मनीष मथुरिया, संदीप अग्रवाल, अनूप महेश्वरी, अभिषेक कुमार, हरेंद्र कुमार, राजेंद्र कुमार, हसन मुहम्मद, चरन सिंह, चित्रा कुमारी, ललित पचैरी, चंद्रभान शर्मा आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप