जागरण संवाददाता, हाथरस : हाथरस जंक्शन के गांव बोझिया में रविवार रात बवाल के बाद से तनावपूर्ण हालात हैं। गांव में हमला करने पहुंचे पड़ोसी गांव के दो युवकों को बांधकर पीटे जाने के मामले में अब दोनों ओर के आरोपित फरार हैं। गांव में सन्नाटा छाया है। पेड़ से बांधकर पीटने के कारण पड़ोसी भी घरों से फरार हैं। इस बीच गांव से पलायन की चर्चाओं से सनसनी फैल गई है। पुलिस अधिकारी इसकी पुष्टि नहीं कर रहे हैं। इधर पुलिस ने गांव नगला सक्कन के दो युवकों को गिरफ्तार कर लिया है।

गांव बोझिया के वीरेंद्र उर्फ भोला व नगला सक्कन के गुलफान के बीच विवाद हुआ था। वीरेंद्र ने पहले अपने साथियों के साथ गुलफान की पिटाई कर दी थी, जिसके बाद देर रात गुलफान अपने 15-20 साथियों को लेकर गांव बोझिया में वीरेंद्र के घर पहुंच गया। यहां मारपीट होते ही वीरेंद्र के पक्ष में गांव के लोग आ गए। इसके कारण गुलफान व उसके साथी भाग गए, लेकिन कमरुद्दीन व हमीद को ग्रामीणों ने पकड़ लिया था। इन दोनों को ग्रामीणों ने पेड़ से बांधकर काफी देर तक पीटा। पुलिस पहुंची तो उन्हें भी खदेड़ दिया। बाद में काफी संख्या में पुलिसबल पहुंचा तथा भीड़ से दोनों को छुड़ाया। मामला दो संप्रदाय के लोगों के बीच होने के कारण पुलिस महकमे में खलबली मच गई थी। रविवार रात से ही गांव में पुलिस तैनात कर दी गई। गांव नगला सक्कन में भी पुलिस कर्मी तैनात है। इस घटना को लेकर चर्चाएं हैं कि एक पक्ष जिले के एक बड़े अधिकारी का करीबी है। खुद को उनका रिश्तेदार बताता है। इसी वजह से इनकी मारपीट की हिम्मत हुई।

प्रकरण में पुलिस ने रविवार रात को ही वीरेंद्र के पक्ष से पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया था। मुख्य आरोपित वीरेंद्र फरार चल रहा है, जिसकी तलाश की जा रही है। गुलफान के पक्ष से मंगलवार को पुलिस ने गुलफान व रिजवान को गिरफ्तार कर जेल भेजा। बाकी आरोपितों की तलाश की जा रही है। बोझिया से पलायन :

गाव बोझिया में तनाव के चलते कुछ लोगों के पलायन की चर्चाएं चल रही हैं। वीरेंद्र उर्फ भोला व उसके परिजनों ने विजय सिंह की हत्या में नामजद तीन लोगों के नाम निकाले जाने के विरोध में रविवार को जाम लगाकर प्रदर्शन किया था। कमल सिंह, दान सिंह व एक महिला राजेश कुमारी का नाम निकला था। चर्चाएं हैं कि भोला के डर से इनके परिवार वालों ने गाव छोड़ दिया है, जबकि पुलिस का कहना है कमल सिंह रेलवे में तैनात हैं। इसलिए परिवार के साथ पहले से ही बाहर रह रहे हैं। अन्य लोग भी बाहर नौकरी करते हैं।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran