जागरण संवाददाता, हाथरस : गलत तरीके से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ ले चुके किसानों को अब रकम लौटानी होगी। समय रहते ली गई किस्तों की धनराशि नहीं लौटाने वाले अपात्रों से रिकवरी कराई जाएगी। जिले में 2554 अपात्र किसानों की पहचान हो चुकी है। कृषि विभाग द्वारा उनसे वसूली की तैयारी की जा रही है।

किसानों को लाभ देने के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना शुरू की थी। इसमें किसानों को साल में तीन अलग-अलग किस्तों के रूप में छह हजार रुपये की धनराशि दी जा रही है। इसमें भी अपात्रों ने सेंध लगाकर गरीब किसानों की धनराशि हड़प ली। इस योजना में आयकरदाता, सरकारी नौकरी वाले, अधिक भूमि के स्वामी सहित अन्य को इस योजना से दूर रखा गया था। जिले में दो लाख से अधिक किसान पंजीकृत हैं। इनमें से करीब 1.80 लाख किसानों को इस योजना का लाभ मिल रहा है। 2554 अपात्रों को मिली निधि

कृषि उपनिदेशक हंसराज सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ लेने वाले करीब 2554 अपात्रों (आयकर दाता, मृतक पति-पत्नी व अन्य) को चिह्नित किया गया है। इनमें से अभी तक करीब 50 किसानों ने ही धनराशि नौटाई है। जो अपात्र धनराशि जमा नहीं कर रहे हैं, उनसे तहसील के जरिये रिकवरी कराई जाएगी। इस प्रक्रिया में दस फीसद धनराशि खर्चे के रूप में और देनी पड़ेगी। इसीलिए समय रहते सम्मान निधि की धनराशि अवश्य जमा करा दें। लालगढ़ी में सड़क बनवाने की मांग को लेकर प्रदर्शन

संसू, सिकंदराराऊ : तहसील क्षेत्र के गांव लालगढ़ी के ग्रामीणों ने शुक्रवार को सड़क निर्माण की मांग को लेकर प्रदर्शन किया।

गांव लालगढ़ी में वर्षो से सड़क का निर्माण नहीं कराया गया है। बरसात होने से जगह-जगह जलभराव और कीचड़ हो जाती है। ग्रामीणों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों ने कई बार क्षेत्रीय विधायक और अधिकारियों से सड़क बनवाने की मांग भी की, मगर किसी भी जनप्रतिनिधि व अधिकारी ने ग्रामीणों की समस्या का समाधान करने का प्रयास नहीं किया। शुक्रवार को ग्रामीणों में आक्रोश फूट पड़ा और उन्होंने सड़क निर्माण की मांग को लेकर नारेबाजी, प्रदर्शन किया।

Edited By: Jagran