हाथरस : सिकंदराराऊ में गुरुवार रात सीएचसी पर प्रसव पीड़ित महिला की बच्चे को जन्म देने के बाद अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। बच्चे को जन्म देने के बाद अधिक रक्त रिसाव होने के कारण उसकी हालत बिगड़ी गई थी। इसके बाद उसे अलीगढ़ के लिए रेफर कर दिया गया। वहीं महिला के परिजनों ने सीएचसी स्टाफ पर उपचार में लापरवाही और अलीगढ़ ले जाने के लिए एंबुलेंस उपलब्ध न कराने का आरोप लगाया है।

गाव मूडा नौजरपुर निवासी शिवदान सिंह की पुत्रवधु सुमन देवी 23 वर्ष पत्नी चन्द्रकेश को प्रसव पीड़ा होने पर गुरुवार शाम स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भर्ती कराया गया था। यहा सुमन ने शाम छह बजे स्वस्थ बच्ची का जन्म दिया, लेकिन सामान्य प्रसव होने के बाद अचानक सुमन की तबियत बिगड़ने लगी और रक्त रिसाव शुरू हो गया। अधिक रक्त रिसाव होने पर सीएचसी स्टाफ ने हाथ खड़े कल दिए और उसे अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया।

परिजनों का आरोप है कि उपचार में सीएचसी पर तैनात स्टाफ ने लापरवाही बरती और दो घटे तक रक्त रिसाव नहीं रुका। जब स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गई तो रेफर कर दिया। अलीगढ़ जाने के लिए एंबुलेंस भी उपलब्ध नहीं कराई गई। परिजन प्राइवेट वाहन का इंतजाम करके सुमन को अलीगढ़ ले जाने लगे, पर रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया।

बता दें कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर आज तक सर्जन की तैनाती नहीं की गई है। यहा तक कि महिला रोग विशेषज्ञ का पद काफी समय से रिक्त चल रहा है। महिला चिकित्सक एवं सर्जन और एनेस्थेटिस्ट की तैनाती न होने से स्टाफ नर्स ही पूरा जिम्मा संभालती है।

चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केके शर्मा का कहना है कि गुरुवार शाम को सुमन देवी को अस्पताल लाया गया था। प्रसव होने के एक घटे बाद ब्लीडिंग शुरू होने के कारण हालत बिगड गई और स्टाफ ने समय रहते ही मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस