हाथरस : सासनी के गांव में जांच को गए तहसीलदार से एक बकाएदार ने अभद्रता कर दी। इससे हंगामा हो गया। नौबत मारपीट तक आ गई। जैसे-तैसे लोगों ने मामला शांत कराया। प्रकरण में तहसीलदार ने आरोपित बकाएदार व उसके दो बेटों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

तहसीलदार ठाकुर प्रसाद गुरुवार की सुबह आठ बजे ग्राम गारवगढी में जांच कार्य के लिए लेखपाल विजय कुमार शर्मा के साथ गए थे। इधर संग्रह अमीन को वसूली के निर्देश भी दिए थे। गांव में प्रशासनिक टीम के पहुंचते ही बकाएदार नंदप्रकाश दीक्षित ने दौड़ लगा दी और घर के अंदर छिप गया। तहसीलदार व उनके साथ पहुंचे कर्मियों ने गेट खुलवाने का प्रयास किया। नंद कुमार पर 1.75 लाख रुपये का बकाया है। टीम के घर के आगे जमे रहने के कारण नंदप्रकाश को दरवाजा खोलना पड़ा, लेकिन वह टीम से अभद्रता करने लगा और तहसीलदार व अन्य लोगों से गाली-गलौज की। आरोप है कि उसने काफी हंगामा खड़ा कर दिया तथा कमरे से लोहे की रौड उठा कर टीम के पीछा दौड़ा। टीम ने जैसे-तैसे अपनी जान बचाई। आरोपित के दो बेटों ने भी हंगामा काटा तथा टीम का विरोध किया। तहसीलदार ने पुलिस को खबर की। मौके पर पहुंची पुलिस ने एक युवक को हिरासत में ले लिया। इधर तहसीलदार ने थाने पहुंचकर नंदकुमार व उसके दो बेटों के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा व गाली-गलौज करने पर मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने पकड़े गए युवक प्रशांत के खिलाफ शांतिभंग में कार्रवाई की। एसडीएम न्यायालय से उसे जेल भेजा गया है।

Posted By: Jagran