जासं, हाथरस : स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शहर में तीन क्लीनिकों पर छापेमारी की। तीनों संचालक जरूरी दस्तावेज नहीं दिखा सके। एक क्लीनिक नगला भूरा में खेत में बने घर में मेडिकल स्टोर के लाइसेंस पर चलता मिला। एसीएमओ ने तीनों क्लीनिक से तीन दिन के अंदर प्रमाणपत्र मांगे हैं। संतोषजनक जवाब न मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।

स्वास्थ्य विभाग की टीम बुधवार को आगरा रोड पर डा. दिनेश चंद्रा और गोला आइ केयर सेंटर पर छापेमारी की। दोनों क्लीनिक संचालकों से जरूरी दस्तावेज मांगे। यहां पर मरीज भर्ती कर इलाज चल रहा था। संचालक जरूरी दस्तावेज नहीं दिखा सके। इसके बाद टीम नवल नगर भूरा नगर पहुंची। यहां पर शिकायत मिली थी कि मेडिकल स्टोर के लाइसेंस पर क्लीनिक चल रहा है। एसीएमओ डा. नरेश गोयल ने बताया कि यहां पर पांच बुखार के मरीज भर्ती थे। मरीजों के लिए बेड के स्थान पर चारपाई थी। उन्होंने बताया कि लाइसेंस के मुताबिक मानक पूरे नहीं कर रहे थे। हृदेश मेडिकल स्टोर के नाम से शिव क्लीनिक, नवलनगर भूरा नगला पर मरीजों को भर्ती कर इलाज चल रहा था। इसका वहां पर कोई बोर्ड नहीं मिला था। गांवों में जलभराव से फैल रहा डेंगू

जासं, हाथरस : मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया है कि जनपद में 41 आरआरटी टीमों का गठन किया गया है जो प्रतिदिन घर-घर जाकर बुखार के रोगी खोज रही हैं। स्वास्थ्य कैंप लगाकर उनको उपचारित कर रही हैं। लोगों को भी जलभराव रोकने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि जिन गांवों में जलभराव की समस्या जाता है वहीं डेंगू का प्रकोप है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया है कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से बुखार, डेंगू, मलेरिया व अन्य संक्रामक रोगों के नियंत्रण के लिए सघन पड़ताल की जा रही है। जनपद के प्राथमिक चिकित्सालयों के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी भी गांव-गांव कैंप लगाकर रोगियों का उपचार कर रहे हैं। एंटी लार्वा स्प्रे व फागिग का कार्य प्रतिदिन कराया जा रहा है। संचारी रोगों के प्रभावी नियंत्रण के लिए कलक्ट्रेट मुख्यालय पर कंट्रोल रूम संचालित है। कंट्रोल रूम में हेल्प लाइन नंबर 05722-227041, 227042, 227043, 227044 क्रियाशील हैं।

Edited By: Jagran