संवाद सहयोगी, हाथरस: बेसिक शिक्षा परिषद के अशासकीय सहायता प्राप्त विद्यालयों में अनियमितता बरतने के आरोप में सचिव बेसिक शिक्षा परिषद रूबी सिंह द्वारा लिपिक का तबादला कासगंज जिले किया था। बीएसए ने आदेश मिलने के बाद उक्त लिपिक को रिलीव कर दिया है।

बेसिक शिक्षा परिषद के अधीन आने वाले सहायता प्राप्त विद्यालयों में अनियमितता हुई थी। इस मामले की शिकायत उच्च अधिकारियों के समक्ष की गई थी जो अभ्यर्थी पात्रता श्रेणी में नहीं आते थे। ऐसे लोगों को भी तैनाती सहायक अध्यापक के पद पर दे दी गई। शासन स्तर से इस मामले में जांच पड़ताल किए जाने के निर्देश तत्कालीन बीएसए को दिए थे। इस मामले की जांच शासन स्तर पर चल रही थी। अब जांच पड़ताल के बाद सचिव उत्तर प्रदेश प्रदेश रूबी सिंह ने लिपिक गजेंद्र कुमार का तबादला कासगंज जिले में किया गया। लिपिक का व्यवहार खराब होने के कारण कार्यालय में विवाद हो चुका है।

झेलना पड़ा था निलंबन:

आरटीइ के तहत गरीब बच्चों के दाखिलों के मामले में फीस के एक प्रकरण में लिपिक को निलंबन का दंश झेलना पड़ा था। लिपिक को वर्तमान बीएसए हरीशचंद्र ने निलंबित करते हुए सिकंदराराऊ में अटैच किया था। कई महीने बाद लिपिक को जांच लंबित रखते हुए बहाल किया गया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप