जागरण संवाददाता, हाथरस : फर्जी कॉल सेंटर्स चपत लगाने में जुटे हुए हैं। सासनी के युवक को दिल्ली के कॉल सेंटर ने स्मार्टफोन की जगह एक मूíत व चरण पादुका भेज दी। पीड़ित ने कहीं शिकायत नहीं की है।

सासनी के धर्मेंद्र पुत्र लाखन सिंह को 16 नवंबर को फोनकॉल आया था। फोन करने वाली युवती ने खुद को दिल्ली स्थित कॉल सेंटर से बताया और कहा कि 18 हजार रुपये का फोन मात्र चार हजार रुपये में मिल रहा है। युवती ने काफी देर तक उससे बात की तथा बुकिग के लिए तैयार किया। यहां तक कहा कि उन्हें ऑनलाइन पेमेंट की जरूरत नहीं है। कैश ऑन डिलीवरी की सुविधा है। युवक ने सीओडी पार्सल की बुकिग कर ली। 25 नवंबर को पोस्ट ऑफिस में पार्सल पहुंचा। इसके बाद कॉल सेंटर से फोन कर युवक को जानकारी दी गई। गुरुवार को धर्मेद्र पार्सल लेने पहुंचे। चार हजार रुपये देकर पार्सल ले लिया। परिसर में ही उन्होंने पार्सल खोलकर देखा तो उनके होश उड़ गए। उसमें हथेली के साइज की लक्ष्मीजी की मूíत व दो छोटी प्लास्टिक की चरण पादुका थीं। धर्मेंद्र तत्काल पोस्ट ऑफिस में पहुंचे तथा शिकायत की, लेकिन कर्मचारियों ने मदद में असमर्थता जताई। इसके बाद वे कोतवाली सदर भी पहुंचे, लेकिन राहत नहीं मिली। पार्सल पर दिए नंबर पर संपर्क किया तो पार्सल बदलने से इन्कार करते हुए अभद्रता की गई। धर्मेंद्र की तरह पहले भी जिले के सैकड़ों लोग इस तरह ठगे जा चुके हैं, लेकिन इस तरह की धोखाधड़ी पर अंकुश की व्यवस्था नदारद है। इनका कहना है

काफी समय से फर्जी पार्सल की शिकायत नहीं आई है। समय-समय पर पंजीकृत फर्म के पार्सल चेक भी किए जाते हैं। ग्राहक को लिखित शिकायत करनी चाहिए, लेकिन डाकघर में शिकायत करते नहीं। शिकायत होती भी है तो बाद में रुपये लेकर समझौता कर लेते हैं, जिससे उचित कार्रवाई नहीं हो पाती। यदि ग्राहक के साथ ठगी हुई है तो शिकायत मिलने पर संबंधित फर्म के खिलाफ उच्च अधिकारियों को लिखा जाएगा।

-चंद्रशेखर, एएसपीओ, हाथरस

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस