जागरण संवाददाता, हाथरस: डीएम डॉ. रमाशंकर मौर्य ने कहा कि आज के समय में सबसे बड़ा यदि कोई दान है तो वह रक्तदान है। रक्तदान जीते जी किया जाता है, जबकि नेत्रदान मरने के बाद। हमारे रक्तदान से किसी को जीवनदान मिल सकता है। नेत्रदान से जीवन में रोशनी आती है। वहीं रक्तदान करना एक महान कार्य है।

वे गुरुवार को विश्व रक्तदाता दिवस पर ब्लड बैंक पर आयोजित हुए यूनिवर्सल ह्यूमन राइट्स काउंसिल के बैनर तले स्वैच्छिक रक्तदान शिविर के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि रक्तदान के प्रति लोगों में काफी जागरूकता आई है। उन्होंने आयोजकों को इसके लिए बधाई भी दी। आयोजकों ने अतिथियों का माल्यार्पण करके स्वागत किया। पालिकाध्यक्ष आशीष शर्मा ने कहा कि रक्तदान से बढ़कर कोई दान नहीं है। इससे किसी की जान बच सकती है। आज के समय में मानव ही मानव के काम आता है।

सांसद की धर्मपत्नी श्वेता दिवाकर ने कहा कि आज विभिन्न सामाजिक कार्य तत्परता और तन्मयता से किए जा रहे हैं। इसके लिए पूरी टीम की अग्रणी भूमिका रहती है। सिकंदराराऊ विधायक वीरेंद्र ¨सह राणा ने कहा कि जो व्यक्ति रक्तदान करता है वह व्यक्ति महान लोगों की श्रेणी में आता है। ऐसे कार्य हमेशा करते रहना चाहिए। सीएमओ डा. बृजेश राठौर व सीएमएस डा. आइवी ¨सह ने कहा कि रक्तदान के लिए काउंसिल की टीम बड़े ही कर्तव्यनिष्ठ होकर कार्य कर रही है। सभी को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। राष्ट्रीय महासचिव प्रवीन वाष्र्णेय ने कहा कि मानवाधिकारों के संरक्षण व संवर्धन का कार्य संगठन द्वारा किया जा रहा है।

रक्तदान शिविर के लिए पूरे अस्पताल को गुब्बारों से सजाया गया। शिविर में ए पॉजिटिव, बी पॉजिटिव, ओ पॉजिटिव व एबी पॉजिटिव के 114 रक्तदाताओं ने रक्तदान किया और नेगेटिव ग्रुप वालों की लिस्ट बनाकर सुरक्षित रख ली गई है। इस मौके पर राष्ट्रीय अध्यक्ष सुधीर कुमार अग्रवाल, ओसी कलेक्ट्रेट जयप्रकाश, जिला पूर्ति अधिकारी सुरेंद्र कुमार यादव, खाद्य सुरक्षा अधिकारी राकेश कुमार, पुलिस कर्मी, नगर पालिका व अस्पताल के डॉक्टरों ने रक्तदान किया। शिविर की व्यवस्था में देवेंद्र गोयल, अनिल कुमार वाष्र्णेय, जिला अध्यक्ष संजीव कुमार वाष्र्णेय, शैलेंद्र सांवरिया, मुकेश गोयल, विमलेश बंसल, मुकेश ¨सह वर्मा, दीपेश अग्रवाल, योगेश वाष्र्णेय आदि मौजूद रहे।

By Jagran