जासं, हाथरस : आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा हाईकमान के निर्देश पर जिला कार्य समिति की बैठकें शुरू हो गई हैं। गुरुवार को भाजपा जिला कार्यालय पर हुई बैठक में आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा बताई गई और केंद्र व प्रदेश सरकार की उपलब्धियां गिनाई गईं।

प्रदेश सह प्रभारी संजीव चौरसिया ने 'राजनीतिक परिदृश्य, चुनौतियां और भाजपा की भूमिका' विषय पर कहा कि वैश्विक महामारी के समय प्रधानमंत्री मोदी ने विश्व को यह संदेश देने का प्रयास किया कि भारत अब आत्मनिर्भर बनने की ओर अग्रसर है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश के वैज्ञानिकों ने दिन-रात कार्य करते हुए अल्प समय में वैक्सीन बनाकर लोगों की जान बचाने का काम किया।

जिला प्रभारी चौ. राजा वर्मा ने संगठन के आगामी कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए कहा कि अपनी विचारधारा के जितने भी क्षेत्र पंचायत सदस्य व ग्राम प्रधान चुने गए हैं, उनका ब्लाक मुख्यालयों पर 26 से 31 जुलाई तक स्वागत किए जाएं। राशन वितरण योजना के तहत राशन की दुकानों पर उपभोक्ताओं को भाजपा कार्यकर्ता थैला वितरित करेंगे। इस थैले पर प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के फोटो के साथ स्थानीय जनप्रतिनिधियों के फोटो भी होंगे।

क्षेत्रीय अध्यक्ष ब्रजक्षेत्र रजनीकांत माहेश्वरी ने कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकार के कार्यों के आधार पर प्रदेश में 350 सीटें जीतेंगे। जिलाध्यक्ष गौरव आर्य ने पार्टी संगठन के सभी अभियानों में सहयोग की अपील की। संचालन जिला महामंत्री रूपेश उपाध्याय ने किया। जिला पंचायत अध्यक्ष सीमा उपाध्याय, सदर विधायक हरीशंकर माहौर, सिकंदराराऊ विधायक वीरेंद्र सिंह राणा, चेयरमैन हाथरस आशीष शर्मा, पूर्व सांसद राजेश दिवाकर, पूर्व सांसद बंगाली सिंह, पूर्व विधायक यशपाल सिंह चौहान, शहर अध्यक्ष शरद माहेश्वरी, प्रदेश कार्य समिति सदस्य रामवीर भैया, महेंद्र सिंह आचार्य, रामकुमार माहेश्वरी, डौली माहौर, चेयरमैन सादाबाद रविकांत अग्रवाल व विभिन्न प्रकोष्ठों व मोर्चो के पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

कार्यकर्ता नहीं रख पाए अपनी बात

भाजपा के कुछ असंतुष्ट कार्यकर्ता प्रदेश सह प्रभारी संजीव चौरसिया व ब्रज क्षेत्र अध्यक्ष रजनीकांत माहेश्वरी से मिलना चाहते थे। वे जिला पंचायत व ब्लाक प्रमुख चुनाव को लेकर कुछ बातें रखना चाहते थे मगर उन्हें मौका नहीं दिया गया। उनका कहना है कि स्थानीय स्तर पर ढंग से काम नहीं हो रहा है। निष्ठावान कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की जा रही है।