जागरण संवाददाता, हाथरस : गरीब और पिछड़े परिवार से निकलकर फिल्मी दुनिया में खुद के साथ ही हाथरस का नाम रोशन करने वाले राकेश दीवाना जीवन और मौत के बीच संघर्ष कर रहे हैं। वे काफी मोटे थे, सो मोटापा कम कराने के लिए इंदौर (मध्य प्रदेश) में आपरेशन कराने गए थे। वहीं हास्पिटल में शुक्रवार को उनकी हालत बिगड़ गई। डाक्टरों ने उन्हें वेंटीलेटर पर रखा है। इसकी जानकारी यहां होते ही उनके शुभचिंतकों को सदमा सा लगा है। तमाम लोग इंदौर के लिए रवाना हो गए हैं।

हाथरस शहर की लेबर कालोनी के रहने वाले राकेश दीवाना एक गरीब और पिछड़े परिवार से हैं। उन्हें अभिनय का शौक था और मुंबई में कुछ संपर्क-संबंध भी। करीब बीस साल पहले फिल्मी दुनिया में भाग्य आजमाने के लिए वे मुंबई निकल गए। वहां शुरू में उन्हें फिल्मों में छोटे-छोटे अभिनय मिल गए। बस यहीं से उन्होंने आगे बढ़ने का रास्ता तलाशा। फिर तो जंजर, या रब, रफूचक्कर, डबल धमाल, राउड़ी राठौर आदि करीब दर्जनभर फिल्मों में किरदार का मौका पाया। इसी दौरान वे टीवी धारावाहिकों से भी जुड़ गए। ये रिश्ता क्या कहलाता है में तो महाराज की भूमिका ने तो उन्हें काफी ख्याति दिला दी। इसके बाद महाभारत, रामायण, महादेव, तू रहने वाली महलों की, तारक मेहता का उल्टा चश्मा आदि में भी उन्होंने अभिनय किए। पिछले दिनों जब वे हाथरस आए थे तो उन्होंने यहां 'कान्हा की ब्रजभूमि' फिल्म बनाने का मन बनाया। इसके लिए स्क्रिप्ट और गाने तक तैयार करा लिए।

वे अपने मोटापे से कुछ ज्यादा ही परेशान थे। पाकिस्तानी गायक अदनान सामी ने पिछले दिनों आपरेशन कराकर अपना मोटापा कम कराया था। इससे वे भी प्रभावित हुए और इंदौर में एक हास्पिटल में बीस अप्रैल को आपरेशन के लिए भर्ती हो गए। वहां आपरेशन के बाद उनकी हालत बिगड़ती चली गई। शुक्रवार की शाम उन्हें वेंटीलेटर पर ले लिया गया। पूर्व में उनकी पत्नी का यहां इंतकाल हो गया था। बताते हैं कि पिछले ही महीने उन्होंने दूसरी शादी भी की थी।

-----------