हरदोई : हर अभिभावक की कामना होती है कि उनके बच्चे पढ़ें और आगे बढ़ें। लेकिन, इसके साथ बेहद जरूरी है कि वे सुरक्षित रहें। शासन भी विद्यालयों के वाहनों को लेकर गंभीर है, पर इससे बेफिक्र स्कूल संचालक मनमानी पर उतारू हैं। इसी का नतीजा है जिले में 140 अनफिट वाहन 'खतरा' बनकर दौड़ रहे हैं। ये कब हादसे का शिकार हो जाएं, भरोसा नहीं है।

उप संभागीय परिवहन कार्यालय में पांच दर्जन से अधिक स्कूलों के 520 वाहन पंजीकृत हैं। इनमें से 140 वाहनों का फिटनेस तक नहीं है। स्कूल संचालकों ने वाहन चालकों का चरित्र प्रमाण-पत्र भी कार्यालय में जमा नहीं कराया है। लंबे समय से इसी तरह ये स्कूली वाहन चल रहे हैं, लेकिन ऑनलाइन सत्यापन हुआ तो ये बात सामने आई। अब उप संभागीय परिवहन कार्यालय ने ऐसे विद्यालयों और वाहनों की सूची जारी की है, जिससे स्कूल संचालकों में हड़कंप मच गया है।

-----

फाइलों में कैद नोटिस : वैसे तो एआरटीओ प्रशासन की ओर से संचालकों को स्कूली वाहन का फिटनेस कराने और चालकों का चरित्र प्रमाण पत्र जमा कराने के लिए कई बार नोटिस जारी किया जा चुका है, लेकिन यह खानापूर्ति तक ही सीमित है। अधिकांश नोटिस फाइलों में ही कैद है।

---

-बिना फिटनेस पर चार हजार जुर्माना :

मोटर व्हीकल एक्ट के अनुसार, बिना फिटनेस वाहन पकड़े जाने पर वाहन स्वामी को चार हजार रुपये तक का जुर्माना भरना होगा।

------

अनफिट स्कूली वाहनों के मालिकों को नोटिस जारी किया गया है। उन्हें तीन दिन के अंदर फिटनेस कराने व चालक का चरित्र प्रमाण पत्र जमा कराने को कहा गया है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो पंजीयन निलंबित किया जाएगा। -दीपक शाह, एआरटीओ प्रशासन

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस