हरदोई : अतरौली क्षेत्र में महिला ने गुरुवार शाम घर में फांसी लगा ली। इस घटना के कुछ घंटों बाद पति ने भी लखनऊ में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना के पीछे प्लाट मालिक की धोखाधड़ी वजह बताई जा रही है।

ग्राम माझिगांव के मजरा केसरीपुर के सुनील लखनऊ के थाना काकोरी के बम्हरौली में चाय बेचते थे। चाचा श्रीकृष्ण ने बताया कि सुनील के साथ में उसकी पत्नी सोनिका और चार वर्षीय पुत्री साक्षी व चार माह का बेटा युवराज भी रहता था। सुनील ने थोड़े-थोड़ रुपये जोड़कर बम्हरौली में एक प्लाट खरीदने के लिए सौदा किया था। प्लाट के सौदा में केवल 30 हजार रुपये देने बाकी थे, लेकिन प्लाट मालिक ने प्लाट किसी दूसरे को बेच दिया। बताया कि सोनिका मकर संक्रांति पर बच्चों के साथ सीतापुर के संदना के समसापुर मायके चली गई थी और वहीं केसरीपुर आ गई। लखनऊ में सुनील को पता चला कि प्लाट मालिक ने किसी और को प्लाट बेच दिया। यह बात जब सोनिका को पता चली तो उसने अपनी ननद प्रियंका को पुराने घर बेटी को लेने के लिए भेज दिया और उसी दौरान कमरे में फांसी लगा ली, जब प्रियंका वापस आइ तो सोनिका का शव फंदे पर लटकता मिला। उसने परिवारवालों और भाई सुनील को घटना की जानकारी दी।

शुक्रवार सुबह सुनील ने प्लाट के पास फांसी लगाकर जान दे दी। दंपति की मौत से परिवार में कोहराम मच गया। अतरौली थाना प्रभारी ब्रजेश कुमार मिश्रा ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। इस घटना के बाद परिवार में कोहराम मच गया।

Edited By: Jagran