हरदोई : भारत स्काउट और गाइड के रीजनल मुख्यालय नई दिल्ली के तत्वावधान में जीआइसी के पं. श्रीराम बाजपेई स्काउट भवन में चल रहे रीजनल लेवल हैंडीक्राफ्ट एवं वोकेशनल प्रशिक्षण शिविर के चौथे दिन स्काउट गाइड की राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य व चीफ कमिश्नर ने जायजा लिया। उन्होंने स्काउट गाइड द्वारा बनाई गई हस्तनिर्मित वस्तुओं की सराहना की।

स्काउट गाइड की सदस्य व राष्ट्रपति पुरस्कार विजेता वंदना त्रिवेदी ने चीफ कमिश्नर डीआइओएस वीके दुबे के साथ शिविर का जायजा लेते हुए स्काउट गाइड द्वारा स्वयं निर्मित की गई वस्तुओं को देखा। उत्तराखंड, दिल्ली, हरियाणा समेत 11 प्रांतों के स्काउट गाइड द्वारा तैयार किए गए फ्लावर पार्ट, आइस्क्रीम स्टिक से बनी घड़ी, टेबल लैंप, कैंडल, ¨रग, ब्रेसलेट सहित तमाम हस्तनिर्मित वस्तुओं की सराहना की। उन्होंने कहा कि हस्त निर्मित वस्तुओं की बिक्री बाजार में की जा सकती है। यह घरेलू डेकोरेशन की चीजें है। जिन चीजों को हम लोग खराब समझकर फेंक देते है, उससे तमाम चीजे बनाई जा सकती है। इसके लिए लगन व मेहनत की आवश्यकता है। इस दौरान जिला सचिव अवधेश त्रिपाठी, सह सचिव रमेश चंद्र वर्मा मौजूद रहे। इससे पहले शिविर में अदनान हाशमी, महेंद्र ¨सह, शैलेश ने स्काउट गाइड को हस्तनिर्मित वस्तुएं बनाना सिखाया।

Posted By: Jagran