हरदोई: पुलिस कर्मियों की शान रही थ्री नॉट थ्री राइफल गणतंत्र दिवस की परेड के साथ पुलिस विभाग से विदा हो गई। 1902 में शामिल हुई राइफल के बारे में एसपी ने जानकारियां दीं और खुशी के साथ दु:ख की भी बात कही। पुलिस कर्मियों ने राइफल को चूमकर विदाई दी।

थ्री नॉट थ्री यानी 303 राइफल पुलिस विभाग की कभी शोभा रही। कनाडा से आविष्कार वाली यह राइफल पुलिस विभाग में 1902 में शामिल हुई थी। मारक क्षमता और निशाने के लिहाज से भी इस राइफल का अपने जमाने में अलग ही जलवा रहा। अब आधुनिक शस्त्रों की श्रेणी में वह नहीं आ पा रही थी, उसी को देखते हुए उसे हटाकर उसके स्थान पर इंसास को शामिल किया गया है। 26 जनवरी की परेड में पुलिस कर्मियों के हाथों में अंतिम बार यह दिखाई दी। परेड की सलामी के बाद उसे विदा किया गया। इस बीच कुछ पुलिस कर्मियों ने उसे चूमकर विदाई दी। एसपी अमित कुमार ने खुद कहा कि 118 साल तक साथ देने वाली राइफल को विदा करते समय दु:ख हो रहा है, लेकिन खुशी यह है कि इसके स्थान पर अब आधुनिक राइफल आ रही है। जोकि हल्की है लेकिन मारक क्षमता अधिक है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस