शाहाबाद : कस्बे की बड़ी बाजार दिलेरगंज में एक निजी अस्पताल में प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत हो गई। इससे नाराज स्वजन ने अस्पताल के बाहर हंगामा किया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्वजन को समझा-बुझाकर शांत कराया और शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे। चिकित्सक का कहना है कि मरीज को रेफर कर दिया गया था, लेकिन घरवाले ले नहीं गए।

मझिला क्षेत्र के ग्राम सराय रानक के इंद्रपाल ने बताया कि पत्नी राजमुखी गर्भवती थीं। रविवार सुबह प्रसव पीड़ा होने पर वह उसे लेकर दिलेरगंज स्थित राज सुमन अस्पताल पहुंचे, जहां पर चिकित्सक ने जांच के बाद बताया कि हालत गंभीर है। इसके बाद अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मियों ने एक सादे कागज पर हस्ताक्षर करा लिए और चिकित्सक ने पांच घंटे तक एक कमरे में इलाज किया। इस दौरान परिवार के किसी भी व्यक्ति को कमरे में जाने नहीं दिया। बाद में चिकित्सक ने बताया कि जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गई और शवों को ले जाओ। जच्चा बच्चा की मौत पर अन्य घरवाले आ गए और अस्पताल के बाहर हंगामा करने लगे। फोर्स समेत मौके पर पहुंचे कोतवाल ने सभी को शांत किया। हालांकि पहले घरवालों ने पोस्टमार्टम से इन्कार कर दिया, लेकिन सीओ ने पोस्टमार्टम की बात कही तो वह राजी हु। वहीं दूसरी तरफ राज सुमन अस्पताल की डा. सुमन मिश्रा का कहना है मरीज की हालत गंभीर होने पर उसे रेफर कर दिया गया था, लेकिन स्वजन उसे नहीं ले गए, जिस कारण उसकी मौत हो गई। किसी ने कोई लापरवाही नहीं की और जो भी आरोप लगाए गए हैं वह पूरी तरह से गलत हैं।

Edited By: Jagran