हरदोई (जेएनएन)। शारदीय नवरात्र के पहले दिन हरदोई के एक गांव के छह सौ लोगों ने अनोखी शपथ ली। इन लोगों ने हवन करने के साथ पुलिस अधीक्षक के सामने अपराध न कसम की शपथ ली।

हरदोई के एसपी आलोक प्रियदर्शी ने बताया कि ओमपुरी गांव में अधिकांश पुरुष आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त रहते हैं। महिलायें शराब बनाकर बेचने का काम करती थीं। इन्हें अपराध से दूर रखने के लिए आज जो पहल की गई है, उसे आगे भी जारी रखा जाएगा।

हरदोई जिले के कोतवाली देहात थाना क्षेत्र के ओमपुरी गांव में कल नवरात्र के पहले दिन करीब 600 लोगों ने अपराध न करने की शपथ ली। एसपी हरदोई आलोक प्रियदर्शी के अनुसार हरदोई कोतवाली देहात के गांव ओमपुरी के ज्यादातर लोग अपराध में संलिप्त रहते हैं या फिर अपराधियों को संरक्षण देते हैं। नवरात्र के पहले दिन उनकी उपस्थिति में सभी गांववालों ने हवन कर अपराध न करने की शपथ ली।

समाज को अपराध मुक्त कराने के लिए पुलिस अधीक्षक ने नई पहल शुरू की है। नवरात्र के पहले दिन कोतवाली देहात क्षेत्र के ओमपुरी गांव, जोकि कई तरह के अपराधों से जुड़ा माना जाता है वहां पहुंचकर ग्रामीणों के बीच हवन पूजन कराया और उनसे अपराध से दूर रहने का संकल्प कराया। एसपी ने बताया कि पुलिस का यह अभियान जारी रहेगा और समाज को भी इसमें जोड़ा जाएगा।

एसपी प्रियदर्शी के अनुसार इस गांव के लोगों को अपराध से दूर रखने के लिए आज जो पहल की गई है, उसे आगे भी जारी रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रम से हमारी कोशिश है कि ऐसे लोग समाज की मुख्यधारा से जुड़ें और बेहतर कार्य कर जीवन में आगे बढ़ें। इस कार्यक्रम के दौरान गांव के लोगों ने एसपी को आश्वासन दिया कि न ही वे किसी प्रकार की कोई आपराधिक गतिविधि करेंगे और न ही किसी अपराधी को आश्रय देंगे।

एसपी ने कहा कि पुलिस-पब्लिक के बीच रिश्ते मजबूत कर अपराध नियंत्रण पर जोर दिया जा रहा है। उसी पर नई पहल शुरू की। ओमपुरी गांव जोकि अवैध शराब के नाम से जाना जाता है, वहां पहुंचकर ग्रामीणों के बीच हवन पूजन कराया।

एसपी ने अपराध छोड़कर समाज की धारा में जुड़ऩे की अपील की और नवरात्र के पहले दिन संकल्प कराया। जिसमें काफी संख्या में पुरुष व महिलाएं शामिल हुए।

एसपी ने खुद आहूति डाली और ग्रामीणों से भी आहुतियां डलाकर अपराध से दूर रहने का संकल्प कराया। उन्हें भरोसा दिया कि अपराध से दूर रहें पुलिस उनके साथ है। इस खास पहल की समाज में सराहना की जा रही है। 

Edited By: Dharmendra Pandey