हरदोई : लोगों की यह आदत पुरानी है जब तक दर्द है तभी तक दवा की जरूरत है। कुछ ऐसा ही हाल इन दिनों बाजारों में दिख रहा है। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर जब चरम पर थी तो हर ओर सतर्कता बरती जा रही थी, लेकिन जैसे ही संक्रमण कमजोर हुआ तो फिर से वही लापरवाही हर ओर देखने को मिल रहा है। लोग पुलिस प्रशासन के डर से चेहरे पर मास्क तो जरूर लगा रहे हैं, लेकिन अपने अंदर कोरोना जैसी बीमारी से बचाव को लेकर सतर्कता का भाव नहीं दिखा रहे हैं। कई लोगों के मास्क भी नाक के नीचे लटके रहते हैं। बाजारों में पहले की तरह हीं सामान की खरीद को लेकर आपाधापी मची रहती है। शारीरिक दूरी का कोई मतलब यहां नहीं दिखता है। बाजार, अस्पताल और बैंक कहीं भी कोरोना गाइडलाइन के प्रति लोग खुद से सजग नहीं दिख रहे थे। 014एचआरडी-13

समय दोपहर 12.10 बजे : जिला अस्पताल में लगी तीमारदारों की भीड़ : जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड के सामने मरीजों के तीमारदारों की भीड़ लगी हुई थी। अस्पताल में संक्रमित होने का खतरा अधिक है, लेकिन इसके बावजूद कई तीमारदार मास्क तक नहीं लगाए थे न ही शारीरिक दूरी का पालन कर रहे थे। तीमारदारों को समझाने का न तो किसी स्वास्थ्य कर्मी ने प्रयास किया और न ही अस्पताल के जिम्मेदारों ने जहमत उठाई। 014एचआरडी-14

समय दोपहर 12.25 बजे : महिला अस्पताल में नहीं होता शारीरिक दूरी का पालन : महिला अस्पताल में आने वाले मरीजों की सुबह से ही लाइन लग जाती है। चिकित्सक से परामर्श के लिए मरीजों के बैठने की व्यवस्था की गई है, लेकिन इस दौरान शारीरिक दूरी का पालन नहीं होता है। यहां पर आने वाली गर्भवती महिलाओं को सबसे अधिक बचाव कराना होता है, लेकिन गर्भवती महिलाएं इस ओर ध्यान ही नहीं देती हैं। 014एचआरडी-15

समय दोपहर 12.45 बजे : खरीदारी के लिए दुकान पर लगी भीड़ : प्रशासन ने दुकानदारों को सख्त निर्देश दिए हैं कि दुकान पर भीड़ न लगाएं। साथ ही मास्क लगाए ग्राहकों को ही सामान दें, लेकिन बाजार में दुकानों पर भीड़ उमड़ रही है। खरीदारी के दौरान ग्राहक मास्क नीचे कर लेते हैं, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है। संक्रमण से बचने के लिए न तो ग्राहक ही गंभीर है और न ही दुकानदार इस ओर ध्यान दे रहे हैं। 014एचआरडी-16

समय दोपहर 1.10 बजे : शाम सात बजे दुकानें बंद होने के चलते दोपहर में होती भीड़ : सुबह सात बजे से शाम सात बजे तक ही दुकानें खोली जा सकती हैं। इस बाध्यता के चलते सुबह के साथ ही दोपहर में भी बाजार में ग्राहकों की भीड़ लगी रहती है। बाजार में कुछ ग्राहक ही ऐसे होते हैं जो मास्क लगाए नहीं होते हैं, लेकिन अधिकतर दुकानदार बिना मास्क के ही दुकान पर बैठे नजर आते हैं। वहीं दुकानों पर सैनिटाइजर तो दिखाई ही नहीं पड़ता है।

Edited By: Jagran