हरदोई : गांवों को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) बनाए जाने के लिए स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के तहत 1306 ग्राम पंचायतों में इज्जतघर का निर्माण कराया जा रहा है। 1 अप्रैल 2018 को 3 लाख 95 हजार 702 परिवारों में इज्जतघर के निर्माण की लक्ष्य पूर्ति वैसे तो 2 अक्टूबर तक पूरी की जानी है। वहीं डीएम पुलकित खरे ने बताया कि अब करीब 47 हजार 356 परिवारों में इज्जतघर का निर्माण शेष बचा है, जिसे पूरा कराने के लिए 20 सितंबर की डेडलाइन रखी गई है।

एसबीएम ग्रामीण के तहत वर्ष 2012 के बेसलाइन सर्वे के अनुसार 456724 परिवारों को इज्जतघर के लिए चिह्नित किया गया था। डीएम ने बताया कि उसमें इज्जतघर का प्रोत्साहन राशि देकर और कुछ परिवारों ने स्वयं से संसाधन जुटाकर इज्जतघर का निर्माण करा लिया था। 1 अप्रैल 2018 को 395702 परिवार इज्जतघर निर्माण के लिए शेष थे। 2 अक्टूबर तक जिले को ओडीएफ बनाए जाने के लिए इज्जतघर निर्माण को तेजी दी गई और लोगों को ओडीएफ के प्रति जागरूक किए जाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है।बताया कि उसी परिणाम रहा कि अब करीब 47 हजार 356 इज्जतघर का निर्माण शेष बचा है। निर्मित इज्जतघर की एमआईएस पर फी¨डग भी कराई जा रही है। लक्ष्य पूर्ति के लिए 2571 इज्जतघर प्रतिदिन निर्माण का लक्ष्य रखते हुए डेडलाइन से पहले ही 20 सितंबर तक शत-प्रतिशत इज्जतघर निर्माण कराने के प्रयास हैं। ताकि 20 सितंबर के बाद छोटे-मोटे कार्य को कराने का मौका मिल सकेगा।

प्रोत्साहन मद में मिले 50 करोड़ : डीएम ने बताया कि एसबीएम ग्रामीण में इज्जतघर निर्माण पर दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि की मद में 50 करोड़ मिले हैं। डीपीआरओ से कहा गया है कि वह ब्लाकों से आने वाली डिमांड के अनुसार परीक्षण कर प्रस्ताव तैयार कराते हुए राशि को जारी कराएं। बताया कि करीब 18 करोड़ की राशि ग्राम पंचायतों को जारी भी जा चुकी है। जबकि सभी बीडीओ एवं एडीओ से कहा गया है कि वह प्रथम किस्त के लिए जल्द मांग उपलब्ध कराएं। वहीं कार्य पूर्ण कराने के लिए द्वितीय किस्त की भी जारी जा रही है।

Posted By: Jagran