हरदोई : संडीला निवासी तीन युवकों ने नाम बदलकर पहले दोस्ती की। फिर छत्तीसगढ़ से यहां बुला लिया। युवकों की हकीकत पता चलने पर तीनों युवतियों ने कोतवाली में एफआइआर दर्ज कराई है। इसमें आरोप लगाया है कि न केवल तीनों युवकों ने उन्हें बंधक बनाया था, बल्कि शारीरिक शोषण कर धर्म परिवर्तन करने का भी दबाव डाला। तहरीर के आधार पर पुलिस ने एफआइआर दर्ज कर दो आरोपितों को जेल भेज दिया है। जबकि तीसरे की तलाश हो रही है।

संडीला की कांशीराम कालोनी में शुक्रवार को तीन युवतियां मिली थीं। जोकि छत्तीसगढ़ के बिलासपुर की रहने वाली थीं। तीन युवकों ने उन्हें लखनऊ तक बुलाया। वहां से उन्हें संडीला ले आए थे। युवकों के घर संदिग्ध युवतियों की मौजूदगी की खबर पर पहुंचे विहिप व बजरंग के कार्यकर्ताओं ने उन्हें छुड़ाया था। हालांकि शुक्रवार को युवतियां कोई कार्रवाई नहीं कराना चाहती थी, इसके पीछे बताया गया कि वह भयभीत थीं और फिर खुद को सुरक्षित महसूस करने पर पुलिस को तहरीर दी। जिसमें तीनों ने बताया कि शकील अहमद, इमरान और नूर आलम ने अपना नाम बदलकर उससे दोस्ती थी और फिर संडीला लाकर उन्हें बंधक बना लिया था। शारीरिक शोषण का प्रयास करने के साथ धर्म परिवर्तन करने के लिए भी धमकाया। किसी तरह वह उनके चंगुल से छूटी। कोतवाल सूर्य कुमार शुक्ला ने बताया कि तहरीर के आधार पर तीनों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर ली गई है। इमरान और शकील को जेल भेज दिया गया है। तीसरा फरार है। तीनों युवतियों का मेडिकल कराया गया है। फिर मजिस्ट्रेट के सामने उनके बयान कराए जाएंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस