बेहटा गोकुल : माइनरों में सफाई न होने से किसानों को पानी नहीं मिल पा रहा है। विभाग की लापरवाही से परेशान ग्रामीण खुद सफाई कराने लगें तो विभाग उसके नाम पर धनराशि निकालने को हाथ साफ करने की कोशिश कर रहा है। बावन विकास खंड के सहोरा माइनर में ऐसा ही हुआ और खबर में शामिल फोटो ही हकीकत बयां कर रही हैं। बावन ब्लाक के सहोरा माइनर में सफाई कराने के लिए ग्रामीणों ने विभागीय अधिकारियों से लेकर संपूर्ण समाधान दिवसों में कई बार शिकायती पत्र दिए थे, लेकिन ग्रामीणों की सुनवाई नहीं हुई, इससे नाराज किसानों ने स्वयं माइनर की सफाई करने के लिए ठान ली। 20 दिन पूर्व बजरेता निवासी श्यामू ¨सह के नेतृत्व में किसान अशोक कुमार ¨सह, सियाराम कश्यप, जयदीप ¨सह, चुन्नू ¨सह, शिवप्रकाश ¨सह, विजय पाल ¨सह, सरोज ¨सह आदि दर्जनों किसानों ने मिलकर 80,000 माइनर की खोदाई के लिए चंदा जमा किया और जेसीबी से माइनर की उठाई करवाई। जिसके बाद किसानों के खेतों तक पानी पहुंच सका, लेकिन सोमवार को उसी माइनर की खोदाई के लिए विभाग की ओर से ठेकेदार अपनी टीम लेकर पहुंच गए और खानापूर्ति कर मजदूरों के साथ सफाई करते हुए फोटो ¨खचवाने लगे। जैसे ही ग्रामीणों को सूचना मिली वह लोग मौके पर पहुंचे और उसका विरोध किया शुरू में तो वे लोग नहीं माने, लेकिन जब मामला तूल पकड़ गया। ठेकेदार मजदूरों को लेकर वहां से रफूचक्कर हो गए। ग्रामीणों का कहना है कि उन लोगों ने खुद सफाई कराई लेकिन विभाग पैसा निकालने का प्रयास कर रहा है।

Posted By: Jagran