हरदोई : परिषदीय विद्यालयों में चहारदीवारी निर्माण के लिए आया दो करोड़ 56 लाख रुपये विभागीय उदासीनता के कारण वापस करना पड़ा। इससे जिले के अभी भी तीन सौ से अधिक विद्यालय चहारदीवारी विहीन है। वहीं विभाग पंचायत राज विभाग से चहारदीवारी बनवाएं जाने का दावा कर रहा है।

जिले में वर्तमान में 2840 प्राथमिक और 1025 जूनियर हाई स्कूल संचालित है। इन सभी विद्यालयों में शतप्रतिशत चहारदीवारी के निर्माण के निर्देश है। विभाग में पूर्व में सर्व शिक्षा अभियान के तहत चाहर दीवारी का निर्माण कार्य कराया जा रहा था। मगर दो वित्तीय वर्ष में चहारदीवारी के निर्माण के लिए बजट नहीं आया। इस पर शासन की ओर से पंचायत राज विभाग को विद्यालयों को चौदवें वित्त आयोग की धनराशि चहारदीवारी निर्माण करने के निर्देश दिए गए थे। जिस पर शिक्षा विभाग की ओर से 1266 विद्यालयों की सूची पंचायत राज विभाग को भेजी गई थी। जिसमें अभी तक तीन सौ से अधिक विद्यालयों में चहारदीवारी का निर्माण नहीं कराया गया। इसी बीच बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से 45 विद्यालयों की चहारदीवारी के लिए दो करोड़ 56 लाख रुपये की धनराशि स्थानांतरित की गई थी। मगर विभागीय कार्यशैली के कारण उसका उपभोग नहीं कर सका और विभाग को दो करोड़ 56 लाख रुपये वापस करना पड़ा। इससे अभी तक सभी विद्यालयों में चहारदीवारी नहीं है। इस संबंध में बीएसए हेमंत राव ने बताया कि जिलाधिकारी के निर्देशानुसार धनराशि वापस की गई है। जो विद्यालय चहारदीवारी विहीन रह गए है। उनके लिए पंचायत राज विभाग को कहा गया है। पंचायत राज विभाग चहारदीवारी का निर्माण करा रहा है।

Posted By: Jagran