जागरण संवाददाता, हरदोई: गाय, भैंस का दूध निकाल कर उन्हें आवारा छोड़ देने वाले पशुपालकों की अब खैर नहीं है। गांवों से लेकर शहरों तक यह समस्या बनी हुई है। पुलिस उनके ऊपर शिकंजा कसेगी। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी के पत्र पर पुलिस अधीक्षक ने सभी थाना प्रभारियों को आवारा पशुओं को छोड़ने वालों के विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई का आदेश दिया है।

आवारा जानवर तो वैसे ही समस्या बने हुए हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में तो खेत के खेत साफ हो जाते हैं। दूसरी तरफ पालतू पशुओं को भी पशुपालक छोड़ देते हैं। वैसे तो भैंसों को भी कुछ लोग छोड़ते हैं जोकि खेतों में घूमती रहती हैं लेकिन गाय में ज्यादा दिक्कत आती है। पशुपालक गायों का दूध निकाल कर उन्हें छोड़ देते हैं। गांवों की तो बात छोड़ दें शहरों में यह समस्या दिख रही है और गलियों व चौराहों पर आवारा जानवर घूमते रहते हैं। विकास भवन सभागार में हुई बैठक में भारतीय किसान यूनियन ने इस मुद्दे को उठाया था। किसान दिवस पर रावेंद्र ¨सह व टीपी ¨सह ने आवारा पशुओं को छोड़ने वालों पर कार्रवाई की मांग रखी थी। जिस पर मुख्य पशु चिकित्साधिकारी ने पुलिस अधीक्षक को आवारा जानवर छोड़ने वालों पर कार्रवाई के लिए पत्र लिखा था। उन्हीं के पत्र पर एसपी विपिन कुमार मिश्र ने आवारा जानवर छोड़ने वाले पशु पालकों के खिलाफ नियमानुसार का आदेश दिया है।

Edited By: Jagran