जागरण संवाददाता, हापुड़ : रेलवे अधिकारियों की घोर लापरवाही के कारण मंगलवार को झमाझम बारिश के बाद एक बार फिर से लोगों के लिए दिक्कत खड़ी हो गई। मेरठ-खुर्जा रेलमार्ग पर बनाए गए अंडरपास में भीषण जलभराव हो गया और कई गांवों के ग्रामीणों का आवागमन प्रभावित हो गया। ग्रामीणों ने अधिकारियों से इस समस्या से निजात दिलाने की मांग की है। ग्रामीणों ने कहा कि पूरे बारिश हमें परेशानी हुई और अधिकारियों ने तनिक भी ध्यान नहीं दिया।

ग्रामीण कृपाल ¨सह, बोबी, नीटू, धर्मेंद्र, टेनपाल, राजेंद्र, गजेंद्र, मदन ¨सह, भगत ¨सह आदि ने बताया कि गांव महमूदपुर में बने गेट नंबर-32 सी पर रेलवे ने अंडरपास बनाया था। इसके अलावा गांव सादिकपुर और नवादा में भी अंडरपास का निर्माण हुआ था। मंगलवार को क्षेत्र में झमाझम बारिश हुई। परिणामस्वरूप तीनों ही अंडरपासों में कई फीट पानी भरने से ग्रामीणों का रास्ता बंद हो गया है। तीनों ही अंडरपास से करीब तीस से पैतीस से अधिक गांव जुड़े हुए हैं। यहां पानी भरने से वाहन भी फंस जाते हैं। सबसे ज्यादा दिक्कत स्कूली बच्चों को हो रही है। क्योंकि महमूदपुर और आसपास में चार पब्लिक स्कूल के अलावा एक इंटर कॉलेज भी संचालित हो रहा है।

ग्रामीणों ने बताया कि पानी भरने के कारण अब ग्रामीणों को रेलवे लाइन पार कर अपने गांव की तरफ जा पड़ रहा है। ऐसे में हादसा होने का भी खतरा बन गया है। रेलवे अधिकारियों से अंडरपास में भरने वाले पानी की जलनिकासी कराने की मांग की गई, लेकिन शिकायती पत्र पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। ग्रामीणों ने प्रशासन के अधिकारियों से जल्द से जल्द जलभराव की समस्या से निजात दिलाने की मांग की है।

इसके अलावा गांव दादरी में बने अंडरपास में भी पानी भरने से इस गांव से जुड़े करीब पांच गांवों का रास्ता पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। ग्राम प्रधान ¨पटू ने बताया कि जलभराव के कारण काफी दिक्कत हुई है। अंडर पास का पिलर भी क्षतिग्रस्त हुआ है। जल्द ही समस्या का समाधान कराया जाए।

Posted By: Jagran