संवाद सहयोगी, पिलखुवा : तृप्तिृ पब्लिक स्कूल में बुधवार को छात्राओं को आत्म सुरक्षा का प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षकों ने छात्राओं को अपने स्कूल बैग में पिन अथवा हेयर क्लिप जैसी नुकीली वस्तुएं रखने की सलाह दी। कराटे प्रशिक्षक मनीषा ने बताया कि मनुष्य का शरीर जल, वायु, आकाश, अग्नि और पृथ्वी पांच तत्वों से मिलकर बना है। उसी प्रकार आत्मा को संचालित करने के लिए जीवन में सात गुण सुख, शांति, प्रेम, आनंद, ज्ञान, शक्ति और पवित्रता की आवश्यकता होती है। आत्मा इन्हीं सात गुणों से मिलकर बनी है, इसलिए आत्मा को सतोगुणी आत्मा कहा जाता है। उन्होंने बताया कि आत्मसुरक्षा के लिए कराटे सीखने के बाद जरूरत पड़ने पर युवतियां मनचलों को सबक सिखा सकती हैं। उन्हें अपने स्कूल बैग में पिन अथवा हेयर क्लिप जैसी नुकीली वस्तुओं रखनी चाहिए।

Posted By: Jagran